राष्ट्रपति शी चिनफिंग के भाषण का यथार्थवादी मार्गदर्शन अर्थ मौजूद- थाईवानी विद्वान

2019-01-03 19:31:03

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने“थाईवानी देशबंधुओ को सूचना पत्र”के प्रकाशन की 40वीं वर्षगांठ के स्मृति समारोह में भाषण दिया, जिसमें स्पष्ट रूप से थाईवान जलडमरूमध्य के दोनों तटों के एकीकरण का कदम और प्रस्ताव पेश किया गया, जिसका यथार्थवादी अर्थ और मार्गदर्शन है। थाईवान लेबर पार्टी के अध्यक्ष, यीशोउ विश्वविद्यालय के प्रोफेसर यांग यानछिंग ने यह बात कही।

उन्होंने कहा कि मुख्यभूमि के नेता ने उचित बंदोबस्त, सामाजिक व्यवस्था में न परिवर्तन, जीवन तरीके में न बदलाव आदि शब्दों को कहा। शी चिनफिंग के भाषण में थाईवान की शासन के लिए दो व्यवस्थाओं की खोज वाला प्रस्ताव पेश किया। विभिन्न पार्टियां और जगत अपने-अपने प्रतिनिधियों को चुनकर व्यापक लोकतांत्रिक सलाह मशविरा कर सकेंगे, ताकि दोनों तटों के संबंधों के शांतिपूर्ण विकास पर प्रणालीबद्ध बंदोबस्त को आगे बढ़ाया जा सके, इसका न केवल यथार्थवादी महत्व है, बल्कि मार्गदर्शन भी है।

प्रोफेसर यान ने टिप्पणी करते हुए कहा कि शी चिनफिंग के भाषण में दोनों तटों के बीच आदान-प्रदान, खासकर युवाओं के बीच आदान-प्रदान के महत्व पर जोर दिया गया है, यह दोनों तटों के संबंधों के विकास की विशेषता और आवश्यकता के अनुकूल है।

गौरतलब है कि 2 जनवरी 2019 को, “थाईवानी देशबंधुओ को सूचना पत्र”का प्रकाशन की 40वीं वर्षगांठ का स्मृति समारोह आयोजित हुआ। शी चिनफिंग ने इसमें उपस्थित होकर महत्वपूर्ण भाषण दिया।

(श्याओ थांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी