"ताइवान के देशबंधुओं को सूचना पत्र" की 40वीं वर्षगांठ पर शी के भाषण पर अंतरराष्ट्रीय समुदाय की चर्चा

2019-01-04 16:01:07

2 जनवरी को पेइचिंग में आयोजित "ताइवान के देशबंधुओं को सूचना पत्र" की 40वीं वर्षगांठ मनाने के समारोह में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने अहम भाषण दिया। विदेशी विशेषज्ञों, विद्वानों और विदेशों में रह रहे चीनियों का मानना है कि शी के बयान से चीन के शांतिपूर्ण एकता को प्राप्त करने का दृढ़ संकल्प और इच्छा जाहिर हुई है।

पाकिस्तान के चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे की क्षमता निर्माण केंद्र के उप निदेशक यासिर मसूद का मानना है कि पिछले 40 वर्षों में, चीन की मुख्य भूमि ने ताइवान के प्रति तर्कसंगत नीति बनायी है और दोनों तटों की शांति के लिए योगदान दिया है।

दक्षिण अफ्रीकी राजनीतिक और मीडिया विश्लेषक सैंडिलाई ने जोर देते हुए कहा कि ताइवान का मुद्दा चीन का आंतरिक मामला है और इसे स्वयं चीनियों द्वारा हल किया जाना चाहिए। आशा है कि ताइवान स्ट्रेट के दोनों तटों की एकता को जल्द प्राप्त किया जाएगा।

रूस में शांतिपूर्ण एकीकरण को बढ़ावा देने चीन की परिषद के उपाध्यक्ष और महासचिव वू हाओ ने कहा कि राष्ट्रपति शी चिनफिंग के बयान में विदेशों में चीन की शांतिपूर्ण एकता को बढ़ावा देने के निवेदन और दिशा प्रतिबिंबित हुई है, जो चीन के शांतिपूर्ण एकता का नया नीतिगत कार्यक्रम है।

ब्राजील में शांतिपूर्ण एकीकरण को बढ़ावा देने चीन की परिषद के अध्यक्ष वांग च्यून श्याओ ने कहा कि राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने अपने बयान में विदेशों में रह रहे चीनियों द्वारा दोनों तटों की एकता के लिए किए योगदान की पुष्टि की। यह उनके लिए उच्चतम प्रशंसा है। विदेशों में रह रहे चीनियों और समुदायों को एक साथ मिलजुल कर मातृभूमि की एकता के लिए अद्वितीय योगदान देना चाहिए।

(नीलम)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी