भारत के साथ दोनों देशों के और विकासशील देशों के उचित अधिकारों और हितों की रक्षा करना चाहता है- चीन

2019-01-04 17:31:09

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू खांग

दोनों देशों के नेताओं के रणनीतिक मार्गदशन पर चीन-भारत संबंधों में सर्वांगीण सुधार का रुझान नज़र आया और वास्तविक सहयोग तेज़ गति से आगे बढ़ रहा है। ऐसी पृष्ठभूमि में चीन भारत के साथ मिलकर अंतरराष्ट्रीय मामलों में घनिष्ठ सहयोग करते हुए दोनों देशों के और विकासशील देशों के उचित अधिकारों और हितों की रक्षा करना चाहता है। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू खांग ने 3 जनवरी को पेइचिंग में आयोजित नियमित संवाददाता सम्मेलन में यह बात कही।

गौरतलब है कि भारत के विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह ने हाल में कहा कि विश्व में अनिश्चितता मौजूद होने के समय में भारत-चीन संबंध स्थिरता का तत्व है। दोनों देशों को मतभेद को मुठभेड़ तक नहीं बनाना चाहिए। लू खांग ने इसकी चर्चा करते हुए कहा कि गत वर्ष अप्रैल महीने में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ वूहान में भेंट-वार्ता की, जिसने द्विपक्षीय संबंधों के विकास को रास्ता दिखाया और नया आउटलुक दिया।

लू खांग ने कहा कि चीन और भारत एक दूसरे के महत्वपूर्ण पड़ोसी देश ही नहीं, बल्कि अहम नवोदित बाजार वाले देश हैं। चीन हमेशा मानता है कि एक स्वस्थ और स्थिर चीन-भारत संबंध न केवल दोनों देशों और दोनों देशों की जनता के हितों से मेल खाता है, बल्कि विश्व की शांति और विकास के कार्यों को आगे बढ़ाने में भी मददगार सिद्ध होगा। वर्तमान दुनिया में अनिश्चितता और अस्थिरता बढ़ रही है, ऐसी पृष्ठभूमि में चीन भारत के साथ मिलकर अंतरराष्ट्रीय मामलों में घनिष्ठ सहयोग मजबूत करने को तैयार है, ताकि दोनों देशों के और विकासशील देशों के उचित अधिकारों व हितों की समान रुप से रक्षा की जा सके।

(श्याओ थांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी