टिप्पणीः अच्छा परिणाम पाने के लिए चीन और अमेरिका के समान प्रयास की जरूरत

2019-01-10 17:01:08

चीन और अमेरिका के बीच उप मंत्री स्तरीय आर्थिक व व्यापारिक वार्ता 9 जनवरी को पेइचिंग में समाप्त हुई। यह चीन और अमेरिका के बीच दोनों नेताओं द्वारा अर्जेंटीना भेंटवार्ता में प्राप्त अहम सहमतियों का कार्यान्वयन करने के लिए पहली फेस टू फेस वार्ता है। दोनों ने समान रुचि वाली व्यापारिक समस्याओं और ढांचागत समस्या पर विस्तृत और गहरी चर्चा की। हालांकि वार्ता एक और दिन के लिए स्थगित की गयी, फिर भी दोनों ने आपसी समझ को प्रगाढ़ किया और एक दूसरे के ध्यानाजनक समस्याओं के हल के लिए आधार तैयार किया। दोनों पक्षों ने घनिष्ट संपर्क बरकरार रखने पर भी मंजूरी दी।

वार्ता में दोनों ने व्यापारिक समस्या पर सहमति प्राप्त की। मिसाल के लिए, चीन अमेरिका से कृषि उत्पादों और ऊर्जा उत्पादों के आयात का विस्तार करेगा। यह उच्च गुणवत्ता वाले जीवन के प्रति चीनी उपभोक्ताओं की मांग को और अच्छी तरह पूरा कर सकेगा। जानकारी के मुताबिक अमेरिका ने वार्ता में ठोस मांग पेश की, जिस में चीन से अमेरिका से आयातित उत्पादों के ठोस समय स्पष्ट करने की मांग भी की गयी। वास्तव में चीनी बाजार में अमेरिकी उत्पादों का कितना बड़ा अनुपात होगा, अहम बात यह है कि अमेरिकी उत्पादक कैसे चीनी उपभोक्ताओं के खरीदने की इच्छा प्रेरित कर सकते हैं।

वार्ता में अमेरिका ने ढांचागत समस्याएं भी पेश कीं, जिन में कुछ चीनी राष्ट्रीय तंत्र, सुरक्षा और विचारधारा से संबंधित हैं, जो चीन के लिए अस्वीकार्य है। जबकि बौद्धिक संपदा संरक्षण जैसी कुछ समस्याओं का हल आजकल चीन कर रहा है। चाहे चीन और अमेरिका के बीच व्यापारिक विवाद होता या न होता, बौद्धिक संपदा संरक्षण, तकनीक सहयोग, बाजार पहुंच आदि समस्याओं का हल चीन में उच्च गुणवत्ता वाले विकास की प्रक्रिया में किया जाएगा। चीन और अमेरिका के बीच वर्तमान वार्ता में प्राप्त सहमतियां चीन में सुधार व खुलेपन की दिशा से मेल खाती हैं।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी