सानच्यांगयुआन राष्ट्रीय पार्क:चीन में दुर्लभ जानवरों का प्रमुख केंद्र

2019-01-31 16:31:00

पश्चिमोत्तर चीन के छिंगहाई प्रांत की सरकार ने 29 जनवरी को“सानच्यांगयुआन राष्ट्रीय पार्क की रिपोर्ट 2018”जारी की, जिसमें कहा गया कि सानच्यांगयुआ की पारिस्थितिक स्थिति में लगातार सुधार हो रहा है। अब तक यहां कुल 62 किस्मों के जानवर और 196 किस्मों की पक्षी मौजूद हैं, यह पार्क अब देश में यहां तक कि पूरी दुनिया में बड़े आकार वाले दुर्लभ जानवरों का प्रमुख केंद्र बन चुका है।

सानच्यांगयुआन राष्ट्रीय पार्क में विविधतापूर्ण जीव-जंतु और जंगली जानवर रहते हैं। साल 2016 में पार्क ने जंगली जानवर का जांच कार्य शुरू किया। रिपोर्ट के मुताबिक अब तक इस पार्क में राष्ट्र स्तरीय रक्षा किए जाने वाले 69 प्रकार के जानवर हैं, जिनमें जंगली याक, बर्फीले तेंदुए आदि पहले राष्ट्र स्तरीय 16 किस्मों के जानवर और रॉक भेड़ व तिब्बती हिरन समेत दूसरे राष्ट्र स्तरीय 35 किस्मों के जानवर शामिल हैं।

गौरतलब है कि चीन की सभ्यता और मां समान नदी के रूप में ह्वांग हो यानी पीली नदी, छांगच्यांग नदी यानी यांत्सी नदी और छह एशियाई देशों से गुज़रने वाली लान छांगच्यांग नदी (एशिया के दूसरे देशों में इसे मेकोंग नदी भी कहा जाता है) का उद्गम स्थल छिंगहाई तिब्बत पठार पर स्थित है। ये तीन नदियां छिंगहाई प्रांत से गुज़रती हैं और इनका उद्गम स्थान इसी प्रांत में स्थित है। इस तरह तीन नदियों के उद्गम स्थल को चीनी लोग सानच्यांगयुआन कहते हैं। चीनी भाषा में“सान”का अर्थ“तीन”है,“च्यांग”का अर्थ“नदी”और “युआन”का अर्थ“स्रोत”। कुल मिलाकर कहा जाए, तो“सान च्यांग युआन”का अर्थ“तीन नदियों का उद्गम स्थल”होता है। सानच्यांगयुआन क्षेत्र चीन के ही नहीं, विश्व भर के पारिस्थितिकी और जलवायु के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है।

(श्याओ थांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी