अमेरिका के मनमाने ढंग से चीनी कंपनी का मुकाबला करना अन्याय और अनैतिक है- चीन

2019-02-13 11:31:00

अमेरिका ने मनमाने ढंग से “चीन धमकी सिद्धांत” का पूरी तरह फैला रहा है, उसने चीनी कंपनी के उचित विकास और सहयोग वाले अधिकारों और हितों का मुकाबला किया। अमेरिका की कार्रवाई अन्याय ही नहीं, अनैतिक भी है। एक बड़ा देश होने के नाते उसके पास सहनशीलता नहीं है। विश्वास है कि अधिकांश देश अमेरिका के सच्चे इरादे और उसकी उद्दंड कार्रवाई को स्पष्ट रूप से जानते हैं और साफ़-साफ़ देख सकते हैं। चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ छुनयिंग ने 12 फरवरी को पेइचिंग में आयोजित नियमित संवाददाता सम्मेलन में यह बात कही।

रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पेओ ने हंगरी के विदेश मंत्री पीटर सिज्जार्तो के साथ आयोजित संयुक्त पत्रकार सम्मेलन में कहा कि अगर हंगरी ने हुआवेई कंपनी के उपकरणों का इंतजाम किया, तो अमेरिका-हंगरी सहयोग मुश्किल होगा। वहीं हंगरी के विदेश मंत्री का कहना था कि हंगरी और चीन के बीच कोई भी सहयोग हंगरी-अमेरिका साझेदारी संबंध पर खतरा नहीं बनेगा, चीन मुद्दे पर विचार विमर्श के दौरान असत्य तरीका छोड़ना चाहिए। इसके अलावा, यूरोपीय संघ स्थित अमेरिकी राजदूत ने हाल ही में खुले आम कहा था कि चीनी उद्योगों के उपकरणों के प्रयोग को मंजूरी देने वाले किसी भी देश पर अमेरिका प्रतिबंध लगाएगा और बदला लेगा। इसकी चर्चा करते हुए चीनी प्रवक्ता हुआ छुनयिंग ने कहा कि हम विदेश मंत्री सिज्जार्तो द्वारा तथ्यों के आधार पर निष्पक्ष और वस्तुगत आकलन का आभार जताते हैं। मैत्री और सहयोग चीन-हंगरी संबंध की मूल धुन है। चीन-हंगरी मित्रवत सहयोग किसी भी दूसरे देश का खिलाफ़ नहीं है, और न ही दूसरे देश पर प्रभाव पड़ता। हमें आशा है कि चीन-हंगरी संबंध के विकास पर दूसरे देश द्वारा नुकसान नहीं पहुंचेगा।

प्रवक्ता हुआ ने कहा कि अमेरिका ने नग्न रूप से चीन और दूसरे देश के संबंध को धमकी देते हुए क्षति पहुंचायी है, एक बड़े देश होने के नाते उसने कोई सहनशीलता नहीं दिखाई।

(श्याओ थांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी