सुधार और खुलापन बढ़ाना चीनी आर्थिक खतरे को दूर करने का उपाय

2019-03-06 17:01:00

एक अरसे से चीनी अर्थव्यवस्था की हार्ड लैंडिंग की चिंता अंतरराष्ट्रीय अर्थ जगत और मीडिया में एक सरगर्म मुद्दा रहा है ।इस का कारण सरल है ।चीनी अर्थव्यवस्था का आकार 900 खरब युआन(लगभग 130 खरब 60 अरब अमेरिकी डॉलर ) से अधिक है ,जो स्थिरता से विश्व के दूसरे स्थान पर मौजूद है ।विश्व अर्थव्यवस्था में चीन का अनुपात 15 प्रतिशत से अधिक है और विश्व आर्थिक वृद्धि में चीन का योगदान करीब 30 प्रतिशत है ।इतने बड़े आर्थिक समुदाय पर विश्व की कड़ी नजर रखना स्वाभाविक है।

यह माना जाता है कि इधर दो साल कई देसी विदेशी सवालों के प्रभाव से पहले की तुलना में चीनी आर्थिक विकास की गति धीमी हो रही है और चीनी अर्थव्यवस्था नीचे जाने के दबाव का सामना कर रही है । 5 मार्च को चीनी प्रधान मंत्री ली खछ्यांग ने 2019 सरकारी कार्य रिपोर्ट में चीनी अर्थव्यवस्था में मौजूद कठिनाईयों का सार किया। उन्होंने कहा कि हम गहराई से परिवर्तित हो रहे बाहरी पर्यावरण का सामना कर रहे हैं। हम आर्थिक ढांचे के परिवर्तन की गंभीर चुनौती का सामना कर रहे हैं। हम बढ़ रही जटिल स्थिति का सामना कर रहे हैं ।

लेकिन खुशी की बात है कि एक साल की कोशिशों से साबित हुआ है कि चीनी अर्थव्यवस्था आम तौर पर स्थिर रहने के साथ आगे बढ़ रही है और सामाजिक स्थिरता बनी हुई है। इससे फिर जाहिर होता है कि चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के नेतृत्व में चीनी जनता के पास कोई भी कठिनाई दूर करने का साहस ,बुद्धिमत्ता और शक्ति मौजूद है। इसके साथ कई अर्थशास्त्रियों और गणमान्य अंतरराष्ट्रीय वित्तीय संस्थाओं का समान विचार है कि चीनी अर्थव्यवस्था अब बड़े चक्र के पतन की ओर गिरने से काफी दूर है ।चीन महत्वपूर्ण रणनीतिक मौके की अवधि में है और लंबे समय तक इस अवधि में बना रहेगा ।इस जनवरी में अमेरिका की दो बड़ी कोष प्रबंधन कंपनियों में से एक द वानगोर्ड ग्रुप ने अनुमान लगाया कि चीनी अर्थव्यवस्था की हार्ड लैंडिंग की बहुत कम संभावना है। अनुमान है कि चीन की जीडीपी वृद्धि दर वर्ष 2019 में 6.1 प्रतिशत और 6.3 प्रतिशत के बीच रहेगी और इस साल के उत्तरार्द्ध में चीनी अर्थव्यवस्था स्थिर होने का रुझान दिखाया जाएगा।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी