चीन और भारत को एक साथ एशिया के पुनरुत्थान और समृद्धि के लिए योगदान करना चाहिए:वांग यी

2019-03-08 15:31:00

8 मार्च को 13वीं एनपीसी के दूसरे पूर्णाधिवेशन का देसी विदेशी संवाददाता सम्मेलन आयोजित हुआ। चीनी स्टेट काउंसिलर, विदेश मंत्री वांग यी ने चीन भारत संबंध पर प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया के संवाददाता के सवाल का जवाब देते हुए कहा कि 2018 चीन-भारत संबंध के इतिहास में एक महत्वपूर्ण वर्ष था। चीनी राष्ट्रपति शी चिन फिंग और भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऐतिहासिक वू हान मुलाकात का आयोजन किया, जिससे चीन और भारत के बीच उच्च स्तरीय आवाजाही का नया स्वरूप शुरू हुआ, दोनों नेताओं के बीच विश्वास और मित्रता को आगे बढ़ाया गया, चीन-भारत संबंध के विकास की बड़ी दिशा भी स्पष्ट की गई। यह बड़ी दिशा है कि 2 अरब 70 करोड़ की आबादी वाली दो प्राचीन सभ्यता वाले देशों, दो विकासशील देशों और दो बड़े नवोदित आर्थिक समुदायों के रूप में चीन और भारत को एक दूसरे को अपने अपने आर्थिक विकास का महत्वपूर्ण अवसर मानना चाहिए, ताकि एक साथ एशिया के पुनरुत्थान और समृद्धि के लिए योगदान दिया जाए।

वांग यी ने कहा कि एक वर्ष में चीन और भारत की सरकार के विभागों ने दोनों नेताओं की सहमतियों पर अमल करने के लिए बड़ा प्रयास किया और अधिक उपलब्धियां हासिल कीं। वांग यी ने कहा कि चीन भारत के साथ व्यावहारिक सहयोग, सांस्कृतिक आदान-प्रदान को आगे बढ़ाना चाहता है, ताकि द्विपक्षीय संबंधों के विकास में लगातार मजबूती और स्थिरता के साथ शक्ति डाली जाए।

(वनिता)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी