चीनः जीवित बुद्ध के पुनर्जन्म को देश के कानून और धार्मिक तंत्र का पालन करना चाहिए

2019-03-19 17:31:00

चीनः जीवित बुद्ध के पुनर्जन्म को देश के कानून और धार्मिक तंत्र का पालन करना चाहिए

दलाई लामा समेत सभी जीवित बुद्धों के पुनर्जन्म को देश के कानून और नियम, धार्मिक तंत्र और ऐतिहासिक परम्परा का पालन करना चाहिए।

रिपोर्ट है कि हाल ही में दलाई लामा ने कहा था कि उनका अगला उत्तराधिकारी संभवतः भारत से होगा। चीन द्वारा चुने गये जीवित बुद्ध को मान्यता नहीं दी जाएगी। इसकी चर्चा में चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता कंग श्वांग ने 19 मार्च को एक नियमित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि जीवित बुद्ध का पुनर्जन्म तिब्बती बौद्ध धर्म के खास उत्तराधिकार का तरीका है, जिसका निश्चित तंत्र है। चीन सरकार धार्मिक विश्वास की स्वतंत्र नीति अपनाती है और तिब्बती बौद्ध धर्म के इस उत्तराधिकार तरीके का सम्मान करती है। दलाई लामा की पुनर्जन्म के तंत्र के कई सौ वर्षों का इतिहास है। 14वें दलाई लामा खुद भी धार्मिक तंत्र के मुताबिक चुने गये थे और उन्हें तत्कालीन केंद्र सरकार की पुष्टि मिली थी। इसलिए दलाई लामा समेत सभी जीवित बुद्धों के पुनर्जन्म को देश के कानून और नियम के मुताबिक धार्मिक तंत्र और ऐतिहासिक परम्परा का पालन करना चाहिए।

(श्याओयांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी