गोलान हाइट्स के सवाल पर और कई देशों ने अमेरिका की आलोचना की

2019-03-28 16:31:06

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने 25 मार्च को गोलान हाइट्स पर इजरायल की "संप्रभुता" को आधिकारिक रूप से मान्यता दी। इसके बाद रूस, फ्रांस, जर्मनी, ब्रिटेन, पोलैंड, बेल्जियम, ईरान, सूडान और कतर आदि देशों ने इस का विरोध किया ।

रूसी राज्य ड्यूमा के अध्यक्ष व्याचेस्लाव वोलोडिन ने कहा कि अमेरिका ने आधिकारिक रूप से इज़रायल की गोलान हाइट्स पर संप्रभुता को मान्यता दी है, जिससे ये प्रतिबिंबित होता है कि अमेरिका संयुक्त राष्ट्र के ढांचे में अन्य देशों के साथ संबंधित मामलों पर वार्ता करने की अनदेखी कर रहा है। वह संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को दरकिनार करते हुए अपने फैसले खुद करता है। इस कार्यवाही से सत्ता की राजनीति को बढ़ावा देकर युद्ध के हालात पैदा हो सकते हैं। रूसी राष्ट्रपति के समाचार सचिव दिमित्री पेस्कोव ने कहा कि अमेरिका की इस कार्यवाही से मध्य-पूर्व मामले के समाधान और राजनीतिक रूप से सीरिया मामले के समाधान पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के पांच यूरोपीय संघ सदस्यों फ्रांस, जर्मनी, ब्रिटेन, पोलैंड और बेल्जियम ने 26 मार्च को संयुक्त बयान जारी कर कहा कि गोलान हाइट्स पर पांच देशों के रुख नहीं बदले हैं। पांच देश गोलान हाइट्स को इजरायल के क्षेत्र के रूप में मान्यता नहीं देते हैं। सीमाओं में परिवर्तन की एकतरफा घोषणा संयुक्त राष्ट्र के चार्टर का उल्लंघन करती है और अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था की नींव को कम करती है। पांच देशों ने इस बात पर कड़ी चिंता व्यक्त की है कि जिन क्षेत्रों में अवैध रूप से कब्जा कर लिया गया है, उनके दूरगामी प्रभाव हो सकते हैं और इस क्षेत्र की स्थिति पर प्रभाव पड़ सकता है।

(नीलम)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी