टिप्पणीः चीन और अमेरिका को बड़े देश का कर्तव्य निभाना चाहिए

2019-04-04 13:32:00

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने 1 अप्रैल को दि एल्डर्स के प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात के दौरान कहा कि बड़े देशों के संबंध वैश्विक रणनीति की स्थिरता से संबंधित हैं। चीन बड़े देशों के बीच समन्वय व सहयोग को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहा है। चीन-अमेरिका संबंध विश्व में सबसे महत्वपूर्ण द्विपक्षीय संबंधों में से एक हैं। आशा है कि अमेरिका चीन के साथ मतभेदों का नियंत्रण कर सहयोग का विस्तार कर सकेगा, एक साथ विचार-विमर्श, सहयोग व स्थिरता के आधार पर चीन-अमेरिका संबंधों का विकास कर सकेगा, और विश्व को ज्यादा स्थिरता व पूर्वानुमान दे सकेगा।

यह हालिया स्थिति में चीन-अमेरिका संबंधों को लेकर शी चिनफिंग का नया व्याख्यान है। कर्तव्य निसंदेह एक अहम शब्द है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्य देश और विश्व के पहले दो बड़े आर्थिक समुदाय होने के नाते चीन और अमेरिका विश्व आर्थिक विकास को आगे बढ़ाने, अंतर्राष्ट्रीय शांति की रक्षा करने और वैश्विक चुनौती का सामना करने में अहम भूमिका अदा करते हैं। चीन-अमेरिका संबंध द्विपक्षीय संबंधों के दायरे के बाहर आ चुके हैं, जिसका स्पष्ट वैश्विक प्रभाव है। कुछ विशेषज्ञ कहते हैं अगर चीन-अमेरिका संबंध को जुकाम हुआ, तो पूरी दुनिया को खांसी होगी।

हाल में विश्व नये दौर की वैज्ञानिक व तकनीकी क्रांति और उद्योग सुधार द्वारा लाये गये विकास के मौके का सामना कर रहा है, साथ ही संरक्षणवाद और एकतरफावाद के बढ़ने, विश्व अर्थतंत्र की मंदी और गैर-परम्परागत सुरक्षा धमकी के बढ़ने के जोखिम का सामना कर रहा है। इसलिए चीन और अमेरिका को समान कर्तव्य निभाना चाहिए।

व्यवस्था, संस्कृति, राष्ट्रीय स्थिति और विकास चरण की भिन्नता के चलते चीन और अमेरिका के बीच मतभेद होना सामान्य बात है। उदाहरण के लिए आर्थिक व व्यापारिक क्षेत्र में चीन और अमेरिका के बीच एक दूसरे की आपूर्ति और आपसी लाभ व साझी जीत के संबंध कायम हुए हैं। दोनों के बीच आर्थिक व व्यापारिक संबंध भी और जटिल हैं। आज की दुनिया में टैरिफ़ बढ़ाने से समस्या का हल नहीं किया जा सकता है, बल्कि इससे द्विपक्षीय आर्थिक विकास और वैश्विक आर्थिक विकास को क्षति पहुंचती है। आईएमएफ की प्रबंध निदेशक क्रिस्टीन लगार्दे ने हाल में चेतावनी दी कि विश्व अर्थतंत्र अधिक से अधिक अस्थिर होँ रहा है और ऐसे में आगे बढ़ने की प्रेरणा शक्ति कमजोर हो चुकी है। मलेशियाई विदेश मंत्री ने अमेरिका और चीन से और अधिक वैश्विक कर्तव्य निभाने की अपील की।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी