जी-7:फिलिस्तीन-इजराइल समस्या पर अब भी मौजूद हैं मतभेद

2019-04-07 15:33:00

जी-7 देशों के विदेश मंत्रियों का दो दिवसीय सम्मेलन 6 अप्रैल को उत्तर-पश्चिम फ्रांस के दिनार्ड शहर में संपन्न हुआ। जी-7 देशों ने कहा कि वे आतंकवाद विरोधी, इंटरनेट सुरक्षा, अफ्रीका का शांति मिशन आदि कई क्षेत्रों में सहयोग मजबूत करेंगे। लेकिन फिलिस्तीन-इजराइल समस्या और ईरान के बीच समस्या पर जी-7 के देशों में मतभेद अब भी मौजूद हैं।

फ्रांसिसी विदेश मंत्री जीन-यवेस ले ड्रिएन ने सम्मेलन के बाद एक न्यूज ब्रीफिंग में कहा कि जलवायु परिवर्तन आदि वैश्विक मुद्दों के निपटारे के लिए फ्रांस, जर्मनी, जापान और कनाडा चार देशों के विदेश मंत्रियों ने बहुपक्षीयवाद की रक्षा और पुनरुत्थान करने की अपील की। लेकिन उन्होंने इस सवाल पर अमेरिका, ब्रिटेन और इटली का रुख प्रस्तुत नहीं किया। सम्मेलन के बाद आयोजित एक न्यूज विज्ञप्ति में कहा गया कि जी-7 ने स्पष्ट मतभेद वाली फिलिस्तीन-इजराइल मुठभेड़ समस्या पर चर्चा की।

विज्ञप्ति में कहा गया कि आतंकवाद का विरोध अब भी जी-7 के सदस्य देशों के सामने आयी प्राथमिक समस्याओं में से एक है। जी-7 देशों को आईएस का विस्तार करने वाले सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक तत्वों को मिटाना चाहिए। अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा वातावरण अहम चुनौतियों का सामना कर रहा है, खास तौर पर नाभिकीय अप्रसार और निःशस्त्रीकरण के क्षेत्र में। जी-7 ने संयुक्त राष्ट्र संघ की शांति की रक्षा करने की केंद्रीय भूमिका पर जोर दिया और कहा कि वह अफ्रीकी देशों के साथ द्विपक्षीय और बहुपक्षीय सहयोग को मजबूत किया जाएगा।

इस बार के विदेश मंत्रियों का सम्मेलन इस साल के अगस्त माह में दक्षिण अफ्रीका के समुद्रतटीय शहर बिआरिज़ में आयोजित होने वाले जी-7 शिखर सम्मेलन की तैयारी है। अमेरिकी विदेश मंत्री सम्मेलन में उपस्थित नहीं हुए। उनके स्थान पर अमेरिकी उप विदेश मंत्री जॉन सुलिवन ने सम्मेलन में शिरकत की।

(श्याओयांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी