भारत के सॉफ्टवेयर दिग्गज ग्रोथ पर आशावान

2019-04-14 15:31:01

13 अप्रैल को मुंबई से मिली खबर के मुताबिक टाटा कंसल्टेन्सी सर्विस और इन्फ़ोसिस वर्ष 2019-20 में रेवे ग्रोथ को लेकर बहुत आशावान हैं, लेकिन मुनाफ़े को लेकर थोड़ी चिंता में हैं।

दोलत कैपिटल मार्केट, जो स्टॉक ब्रोकरेज फर्म है उसके प्रमुख अमित खुराना ने बताया कि ऊंची सब-कान्ट्रैक्टिंग की कीमत, स्थानीयकरण, संघर्षण और निवेश जैसे क्षेत्र के कारण वर्ष 2019-20 में मुनाफ़े पर दबाव बढ़ेगा।

हालांकि वर्ष 2019-20 में दोनों ही कंपनियों ने मुनाफ़ा कमाया था लेकिन टीसीएस में प्रचालन लागत 31 बेसिस प्वाइंट गिरी जो कि 25.1 फीसदी है वहीं इन्फ़ोसिस 150 बेसिस प्वाइंट्स नीचे गिरा जो 22.8 फीसदी है।

शुक्रवार को दोनों कंपनियों ने अपनी वर्ष 2019-20 की वार्षित वित्तीय रिपोर्ट जारी की जिसमें टीसीएस का मुनाफ़ा, 20.9 बिलियन अमेरिकी डॉलर रहा जो कि पिछले वर्ष के मुकाबले 21 फीसदी अधिक था जो कि 4.5 बिलियन अमेरिकी डॉलर बनता है।

वहीं इंफ़ोसिस का मुनाफ़ा 11.8 अरब अमेरिकी डॉलर और उसका सकल लाभ 2.2 बिलियन अमेरिकी डॉलर रहा, जोकि 16.9 फीसदी अधिक था हालांकि पिछले वर्ष के मुकाबले ये 11.5 फीसदी गिरा है।

शुक्रवार को नैसडैक स्टाक एक्सचेंज 10.55 अमेरिकी डॉलर पर बंद हुआ जो कि 3.8 फीसदी गिरावट के साथ बंद हुआ जबकि टीसीएस स्टॉक 8.52 अमेरिकी डॉलर पर बंद हुआ जो 2.9 फीसदी उछाल के साथ बंद हुआ था।

इंफ़ोसिस के सीईओ सलिल पारिख ने कहा कि हमारे योजनाबद्ध निवेश ने अब हमें मुनाफा देना शुरु किया है, वित्त वर्ष 2020 में हम अपना व्यापार बढ़ाने के लिये कई नई योजना को शुरु कर सकते हैं।

वर्ष 2019-20 के लिये इंफोसिस ने जहां अपने मुनाफे वृद्धि को 7.5 – 9.5 फीसदी बताया है वहीं टीसीएस ने कुल 21.9 बिलियन अमेरिकी डॉलर के अनुबंधों पर हस्ताक्षर किया है। जो ये दिखाता है कि अगला वर्ष इनके व्यापार बढ़ोतरी को एक बेहतर गति देगा।

टीसीएस के मुख्य वित्तीय अधिकारी वी. रामकृष्णन ने बताया कि दो अंकों वाली वृद्धि और उच्च गुणवत्ता वाले व्यापार के साथ बेहतर निर्णय ने हमारे व्यापार और मुनाफ़े को बढ़ाने में वर्ष दर वर्ष काम किया है। निवेश में हमारी दूरदृष्टि ने हमारे मार्केट शेयर को बढ़ाने का काम किया है। साथ ही हमारी लचीली, उद्यमी मार्गदर्शन ने आज हमें बेहतर लाभ दिया है।

भारत की औद्योगिक संस्था नैसकॉम के इस वर्ष फरवरी में लगाए गए अनुमान के मुताबिक भारत का सॉफ़्टवेयर सेवा निर्यात 7 से 9 फीसदी की गति से मुनाफ़ा देगा। ये अनुमान इस वित्तीय के समाप्त होने तक यानी वर्ष 2019 मार्च तक लगाया गया है।

पंकज

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी