टिप्पणी: अमेरिकी विदेश मंत्री ने चीन और लातीन अमेरिका के संबंधों में कलह पैदा करना चाहा

2019-04-17 11:04:00

अमेरिकी विदेशी मंत्री माइक पोम्पेओ ने 11 अप्रैल को चिली, पैराग्वे, पेरू और कोलंबिया की यात्रा शुरू की, ताकि इन के साथ वेनेजुएला सवाल पर नीतियों का समन्वय करे।

लेकिन पोम्पेओ ने चिली पहुंचकर अपनी लातीन अमेरिकी मेजबान को शंका पहुंचाई कि चीन और रूस लातीन अमेरिका के द्वार पर खड़े हैं, अगर इन्हें कमरे में दाखिला दिया, तो वे तुम्हारे घर में हलचल पैदा करेंगे। पोम्पेओ ने वेनेजुएला में चीन के पूंजीनिवेश की भी आलोचना की। इससे पहले के अमेरिकी विदेश मंत्री टिलरसन ने भी समान दावा किया था कि चीन ने अपने आर्थिक प्रभाव से लातीन अमेरिका को लुभाने की कोशिश की थी। अमेरिकी नेताओं के शीत युद्ध विचारधारा से भरे बयानों से यह जाहिर है कि अमेरिका चीन और लातीन अमेरिका के बीच पारस्परिक सहयोग के प्रति असंतुष्ट है। अमेरिका दीर्घकाल तक लातीन अमेरिका को हेगमोनिज़्म, बल राजनीति और नैतिक मूल्य का निर्यात करने का परीक्षण क्षेत्र समझता रहा है। अमेरिका ने अपनी नव स्वतंत्रवादी नीतियों के प्रसार से लातीन अमेरिकी देशों के अर्थतंत्र को नियंत्रित किया और लातीन अमेरिका को आर्थिक संकट में फंसा दिया। लातीन अमेरिका के विद्वानों का कहना है कि नव स्वतंत्रवाद अपनाने का दशक "खोया हुआ दशक" ही है और वही है "अमेरिका का जाल"।

उधर चीन और लातीन अमेरिका के बीच कोई ऐतिहासिक नहीं हुआ और आधुनिक संघर्ष भी मौजदू नहीं है। आर्थिक विकास में वे एक दूसरे के पूरक भी हैं। इसलिए वे अपने अपने विकास के दौरान एक दूसरे की समझ और समर्थन करते हैं। अभी तक चीन और लातीन अमेरिका के बीच व्यापार रकम तीन खरब अमेरिकी डालर तक जा पहुंची है। चीन चिली, पेरु और ब्राजील आदि देशों का सबसे बड़ा व्यापारी सहपाठी बना है। चीनी निवेश ने लातीन अमेरिका में विकास का मौका तैयार किया है। अमेरिकी विदेश मंत्री द्वारा चीन और लातीन अमेरिका के बीच कलह पैदा करने की जो कोशिश है, इसका लातीन अमेरिका में स्वागत नहीं किया गया है। चिली की मीडिया ने पोम्पेओ के बयान के प्रति यह विश्लेषण किया कि वह चिली को दो गुटों के बीच चुनाव करने के लिए मजबूर करना चाहते हैं। चिली के गृह मंत्री ने भी कहा कि चिली को दूसरे देशों के साथ अपने सहयोग के प्रति तीसरे पक्ष की चेतावनी सुनने की जरूरत नहीं है।

चीन और लातीन अमेरिका के बीच रणनीतिक सहयोग और पारस्परिक विश्वास को बहुत उन्नत किया गया है। चीन के नये दौर के रुपांतर और खुलेपन से लातीन अमेरिका के लिए मौका तैयार है। इसी प्रवृत्ति में पोम्पेओ द्वारा चीन और लातीन अमेरिका के संबंधों में फूट के बीज बोने की जो कोशिश है, वह चीन-लातीन अमेरिका सहयोग को नहीं रोक सकेगा।

( हूमिन )

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी