चीन और भारत की संयुक्त फिल्म शूटिंग पर चीनी और भारतीय फिल्मकारों का सुझाव

2019-04-19 11:34:00

चीन और भारत के बीच सहयोग का उज्ज्वल भविष्य है, दोनों देशों के फिल्मकारों को आदान-प्रदान मजबूत कर आपसी समझ बढ़ानी चाहिए। संयुक्त शूटिंग वाली परियोजनाओं में निवेश को“कम से ज्यादा तक”, बाज़ार की प्रक्रिया के अनुसार कदम ब कदम परिवर्तन करना चाहिए...... 18 अप्रैल को 9वें पेइचिंग अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव के दौरान आयोजित“चीन-भारत फिल्म सह-निर्माण मंच”में उपस्थित चीनी और भारतीय फिल्मकारों ने द्विपक्षीय सहयोग को और अच्छी तरह करने पर अपने-अपने सुझाव दिए।

पेइचिंग शहर के प्रसार विभाग के प्रमुख तू फ़ेई ने कहा कि इधर के सालों में“दंगल”और“बजरंगी भाईजान”जैसी भारतीय फिल्मों ने चीनी बाज़ार में अच्छी उपलब्धियां प्राप्त कीं, जिन्हें दर्शकों की लोकप्रियता मिली। बॉलिवूड फिल्म औद्योगिक उत्पादन व्यवस्था विश्वविख्यात है, वहीं चीन विश्व में दूसरा बड़ा फिल्म बाज़ार है। बड़े फिल्म देश होने के नाते चीन और भारत के बीच फिल्म उद्योग के क्षेत्र में समानताएं और निहित शक्ति मौजूद हैं। आशा है कि दोनों देशों के फिल्मकार हाथ मिलाकर एशियाई सांस्कृतिक विशेषता और अंतरराष्ट्रीय स्पर्धा वाली श्रेष्ठ फिल्म बनाएंगे और विश्व फिल्म बाज़ार में अच्छी कामयाबियां हासिल करेंगे।

मंच में चीनी फिल्म के सहयोग निर्माण की कंपनी के जनरल मैनेजर म्याओ श्याओथ्येन ने कहा कि संयुक्त शूटिंग वर्तमान विश्व में फिल्म उद्योग की धारा बन चुकी है। सबसे महत्वपूर्ण कारण है कि इससे अंतरराष्ट्रीय संसाधन एकजुट किया जा सकता है। मिसाल के लिए विभिन्न देशों के श्रेष्ठ फिल्म प्रतिभा, तकनीक, निर्माण क्षमता और बाज़ार आदि। अभी कुछ चीनी फिल्म कंपनियां शूटिंग के लिए भारत गईं, वहीं कुछ भारतीय फिल्में चीन में रिलीज़ हुईं, लेकिन अभी तक दोनों पक्षों के बीच संयुक्त निवेश वाली फिल्म नहीं है।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी