श्रीलंका में हुए हमलों पर कई देशों के नेताओं ने संवेदना दी

2019-04-22 13:03:00

श्रीलंका में विभिन्न स्थानों में 21 अप्रैल को सिलसिलेवार विस्फोट हुए। स्थानीय मीडिया के अनुसार, रविवार देर रात तक कुल 228 लोग मारे गए हैं। जबकि 470 लोग घायल हुए हैं। श्रीलंका स्थित चीनी दूतावास के अनुसार, दो चीनी नागरिक भी हमलों में मारे गए हैं, हालांकि घायल चीनी लोगों की संख्या की पुष्टि नहीं हुई है।

21 अप्रैल की सुबह आठ बजे से श्रीलंका की राजधानी कोलंबो, पूर्वी शहर बत्तिकलोआ और आदि जगहों के होटल, चर्च, और आवासीय क्षेत्र में श्रृंखलाबद्ध 8 विस्फोट हुए, जिनमें 200 से ज्यादा लोग मारे गए हैं, मरने वालों में 35 विदेशी भी शामिल है।

इसके बाद श्रीलंका सरकार ने 21 अप्रैल शाम छह बजे से 22 अप्रैल की सुबह 6 बजे तक पूरे श्रीलंका में कर्फ्यू लगाने की घोषणा की। अब तक पुलिस ने कुल 7 विस्फोटों के संदिग्ध व्यक्तयों को गिरफ्तार किया है। लेकिन किसी भी संगठन ने इन विस्फोटों की जिम्मेदारी नहीं ली है।

इसके बाद चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग और प्रधानमंत्री ली खछ्यांग ने श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रिपाला सिरिसेना और प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे को संवेदना संदेश भेजा। शी चिनफिंग ने कहा कि चीन सरकार और चीनी जनता हमेशा श्रीलंका के जनता के साथ श्रीलंका की राष्ट्रीय सुरक्षा और स्थिरता का समर्थन करते हैं।

वहीं रूसी राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन ने संवेदना संदेश में कहा कि रूस हमेशा श्रीलंका आतंकवाद के खिलाफ करने का विश्वसनीय साथी है, इन हमलावरों को दंडित किया जाना चाहिए।

उधर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने सोशल मीडिया अकाउंट पर श्रीलंका को संवेदना दी, उन्होंने कहा कि अमेरिका श्रीलंका को मदद देने के तैयार है।

इसके साथ ही, ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, जर्मनी, भारत, पाकिस्तान, अफगानिस्तान, तुर्की, फ्रांस और सिंगापुर आदि देशों के नेताओं ने भी इन हमलों पर जोरदार निंदा की। साथ ही अंतरराष्ट्रीय समुदाय से एक साथ आतंकवाद के खिलाफ सहयोग करने की अपील की।

(मीरा)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी