अमेरिका ने ईरान की परमाणु गतिविधियों पर प्रतिबंध मजबूत किया

2019-05-04 17:33:00

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने 3 मई को घोषणा की कि ईरान को परमाणु हथियार रखने की संभावना को पूरी तरह से समाप्त करने के लिए अमेरिका ईरान की परमाणु गतिविधियों पर प्रतिबंधों को मजबूत करेगा।

पोम्पिओ ने बयान जारी कर कहा कि 4 मई से, ईरान के बुशहर परमाणु ऊर्जा संयंत्र को मौजूदा रिएक्टरों के आधार पर विस्तारित करने या प्राकृतिक यूरेनियम बदलने के लिये ईरान से यूरेनियम संवर्धन के परिवहन के किसी भी प्रयास को अमेरिकी प्रतिबंधों का सामना करना पड़ेगा।

पोम्पेओ ने यह भी कहा कि ईरान को यूरेनियम संवर्धन सहित परमाणु प्रसार से संबंधित सभी गतिविधियों को रोकना चाहिए। अमेरिका ईरान को मौजूदा स्टॉक से अधिक ड्यूटेरियम ऑक्साइड स्टोर करने की अनुमति नहीं देता है।

हालांकि, बयान में यह भी कहा गया है कि अमेरिका उन परियोजनाओं को अनुमति देगा, जो ईरान को अपने पुराने परमाणु हथियार कार्यक्रम को फिर से शुरू करने में मदद होगा।

अमेरिकी सरकार पिछले साल के मई में ईरानी परमाणु मुद्दे के व्यापक समझौते से हट गयी थी। उसी साल नवंबर में, ईरान के खिलाफ प्रतिबंध फिर से शुरू हुए और दोनों पक्षों के बीच तनाव बढ़ गया। अमेरिकी सरकार ने अप्रैल के अंत में घोषणा की कि ईरानी कच्चे तेल के निर्यात को पूरी तरह से अवरुद्ध करने के लिए 2 मई से ईरानी कच्चे तेल का आयात करने वाले देशों व क्षेत्रों को छूट नहीं देगा।

ईरानी विदेश मंत्री ज़रीफ़ ने अप्रैल के अंत में कहा कि अमेरिका के अतिरिक्त प्रतिबंधों के जवाब में ईरान “परमाणु हथियारों के अप्रसार पर संधि” से निकालने पर विचार कर रहा है।

अंजली

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी