टिप्पणीः क्या न्यूजीलैंड चीन और लातिन अमेरिका के बीच बनेगा सेतु

2019-05-07 21:32:00

इस मार्च में न्यूजीलैंड का निर्यात 5 अरब 70 करोड़ न्यूजीलैंड डॉलर पर जा पहुंचा ,जो एक नया रिकार्ड है । न्यूजीलैंड के सांख्यिकी ब्यूरो के अनुसार इसका मुख्य कारण चीन के प्रति निर्यात में वृद्धि आना है। वास्तव में इधर के कुछ सालों में चीन आस्ट्रेलिया की जगह लेकर न्यूजीलैंड का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार,सबसे बड़ा निर्यात बाजार और सबसे बड़ा आयात स्रोत देश बन गया है। चीन और न्यूजीलैंड का वार्षिक द्विपक्षीय व्यापार 30 अरब न्यूजीलैंड डॉलर से अधिक हो गया है।

आम तौर पर देखा जाय, तो चीन के प्रति न्यूजीलैंड की नीति व्यावहारिक और विवेकतापूर्ण है। न्यूजीलैंड चीन के साथ मुक्त व्यापार संधि संपन्न करने वाला पहला पश्चिमी देश है। न्यूजीलैंड ने शुरुआत से ही एक पट्टी एक मार्ग पहल का समर्थन किया।

हाल ही में न्यूजीलैंड एक महत्वकांक्षी परियोजना के निर्माण पर विचार कर रहा है। यह परियोजना चीन से न्यूजीलैंड को पार कर लातिन अमेरिका जाने वाला हवाई और समुद्री मार्ग है। एक पट्टी एक मार्ग के ढांचे के तहत इस साहसिक परियोजना से न्यूजीलैंड एशिया और लातिन अमेरिका के बीच एक महत्वपूर्ण यातायात और व्यापार सेतु बन पाएगा। इस योजना के पूरी होने पर न्यूजीलैंड के सामने तमाम मौके मौजूद होंगे।

न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जासिंदा आर्डन ने एक महीने पहले चीन की यात्रा की। उन्होंने कहा कि न्यूजीलैंड और चीन के संबंध अच्छे हैं। हमारे राजतीनिक संबंध भी घनिष्ठ हैं। आर्थिक पक्ष में हम एक साथ महान कार्य कर रहे हैं। हमारी जनता का संपर्क दिन ब दिन बढ़ रहा है। न्यूजीलैंड की कूटनीति को स्वतंत्र और न्यायपूर्ण बने रहना चाहिए ।

न्यूजीलैंड स्थित चीनी राजदूत वू शी ने हाल ही में बताया कि चीन न्यूजीलैंड संबंधों के सकारात्मक विकास से यह साबित हुआ है कि स्वतंत्र और निष्पक्ष कूटनीति का पालन करने से सहयोग और समान जीत का मौका हाथ से नहीं जाएगा।(वेइतुंग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी