शांति रक्षा देश के क्षमता निर्माण पर ज़ोर देने की चीनी प्रतिनिधि की अपील

2019-05-08 15:32:00

अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को शांति रक्षा अभियानों के लिये सेना भेजने वाले देशों के क्षमता निर्माण पर ज़ोर देना चाहिए, ताकि सक्रिय रूप से शांति रक्षा क्षमता निर्माण के साझेदार संबंध का निर्माण किया जा सके। संयुक्त राष्ट्र स्थित चीन के स्थाई प्रतिनिधि मा चाओशु ने 7 मई को संयुक्त राष्ट्र शांति रक्षा अभियानों पर खुली बहस में यह बात कही।

मा चाओशु ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय देशों को सेना भेजने वाले देशों विशेषकर सेना भेजने वाले विकासशील देशों की वास्तविक मांग पर ज़ोर देना चाहिए, पूर्ण और प्रभावी प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण से लगातार शांति रक्षकों की सुरक्षा और कार्यक्षमता को उन्नत करना चाहिए। पूरी तरह से संयुक्त राष्ट्र सचिवालय की भूमिका निभाई जानी चाहिए, लगातार शांति रक्षा की प्रशिक्षण नीतियों में सुधार करते हुए प्रशिक्षण सामग्री को समय पर प्रदान किया जाना चाहिए और इसे अपडेट किया जाना चाहिए। सचिवालय को अपनी विशेषताओं के अनुसार शांति रक्षा के क्षमता निर्माण के मांग पक्षों और प्रदाताओं के बीच एक समन्वय भूमिका निभानी चाहिए। सक्रिय रूप से शांति रक्षा की क्षमता निर्माण साझेदार संबंध की सक्रिय रूप से स्थापना की जानी चाहिए, द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय सहयोग किया जाना चाहिए।

मा चाओशु ने कहा कि चीन सुरक्षा परिषद के स्थाई सदस्य के साथ शांति रक्षा अभियानों का प्रमुख सेना भेजने वाला देश और निवेशक है। चीन संयुक्त राष्ट्र के शांति रक्षा अभियानों का मज़बूत समर्थक और महत्वपूर्ण हिस्सेदार भी है। चीन शांति रक्षकों के प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण के कार्य पर बड़ा ध्यान देता है।

(वनिता)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी