तिब्बती एयरलाइंस ने 54 वर्षों तक सुरक्षित उड़ान भरने का रिकॉर्ड कायम किया

2019-05-10 11:34:00

नये चीन की स्थापना के बाद स्थापित तिब्बती एयरलाइंस ने 54 वर्षों तक सुरक्षित उड़ान भरने का रिकॉर्ड कायम किया है जहां की प्राकृतिक वातावरण विश्व में सबसे ऊंची और मुश्किल हैं।

तिब्बती पठार की औसत ऊँचाई 4 हजार मीटर से ऊपर है। जहां का प्राकृतिक वातावरण हिम पर्वत, ग्लेसियर, रेतीली हवा, ओले और भारी बरसात आदि से भरा हुआ है। इस क्षेत्र को उड़ान भरने के लिए विश्व में सबसे मुश्किल क्षेत्र माना जाता है। सन 1956 के मई में चीनी वायु सेना ने ल्हासा के हवाई अड्डे पर प्रथम उड़ान भरी और तिब्बत तक जाने वाला वायु मार्ग खोला। इस के बाद के दस सालों के प्रयासों से सन 1965 में पेइचिंग-छंगतु-ल्हासा वायु मार्ग को औपचारिक तौर पर खोला गया। अभी तक तिब्बत में ल्हासा, छांगतु, न्यिंग-ची, न्गाली और शिगाज़े पाँच शहरों में हवाई अड्डों का निर्माण किया गया है।

सन 1965 से अब तक तिब्बती एयरलाइंस ने सुरक्षित उड़ान भरी है। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की 18वीं राष्ट्रीय कांग्रेस से अभी तक तिब्बती एयरलाइंस की सेवा लेने वाले यात्रियों की वार्षिक वृद्धि दर 15 प्रतिशत तक बनी रही है। वर्ष 2018 में तिब्बती हवाई अड्डों पर यात्रियों की आवाजाही संख्या 53.2 लाख तक रही। बेल्ट एंड रोड के निर्माण के साथ-साथ तिब्बत के खुलेपन में भी तेज़ी आयी है। बहुत से विदेशी पर्यटक तिब्बत का दौरा करने जा रहे हैं।

( हूमिन )

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी