फानी चक्रवात का कहर, 43 की मौत और 50 हजार करोड़ रुपये का नुकसान

2019-05-12 15:01:00

भारतीय मीडिया की 11 मई की रिपोर्ट के अनुसार, 3 मई को भारतीय तटीय क्षेत्रों में, विशेष रूप से भारत के पूर्वी राज्य ओडिशा में फानी चक्रवात का इस कदर कहर टूटा कि मानव और जानवरों के जीवन की क्षति हुई, और बुनियादी ढांचे, सरकारी और निजी संपत्तियों और वनस्पतियों को नुकसान पहुंचा।

ओडिशा सरकार के सूत्रों ने फोन पर शिन्हुआ से बात करते हुए कहा कि इस चक्रवात में मरने वालों की संख्या 43 है, और मोटे तौर पर कुल वित्तीय नुकसान 50,000 करोड़ रुपये (7 बिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक) तक है। लाखों की संख्या में मकान या तो पूरी तरह से या फिर आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हुए हैं।

ओडिशा के विशेष राहत आयुक्त (चक्रवात) बिष्णुपद सेठी ने कहा कि ओडिशा के सभी 14 जिले प्रभावित हैं।

राहत शिविरों में रहने वाले प्रभावित लोगों के बीच भोजन के पैकेट, राहत सामग्री और दवाएं वितरित की जा रही हैं। पुरी में नकदी की कमी जैसी स्थिति पैदा हो गई है, क्योंकि लगभग किसी भी एटीएम में नकदी उपलब्ध नहीं है।

बिष्णुपद सेठी के शब्दों में, राज्य को चक्रवात में हुए नुकसान से पूरी तरह उबरने में एक दशक तक का समय लग सकता है। सेठी ने कहा, "हम सामान्य दैनिक जीवन को पटरी पर लाने के लिए काम कर रहे हैं, जिसमें एक दशक तक का समय लग सकता है। हुए नुकसान का सटीक आकलन अभी तक नहीं किया जा सका है, क्योंकि अभी भी कई प्रभावित क्षेत्रों में संचार बहाल होना बाकी है।"

9 दिनों के बाद भी, राज्य की राजधानी भुवनेश्वर और पड़ोसी जिले पुरी के बड़े हिस्से में बिजली नहीं है और पेयजल और खाद्य आपूर्ति का वितरण अभी भी अनियमित है।

(अखिल पाराशर)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी