चीन व अमेरिका के बीच व्यापक समान हित प्राप्त हैं

2019-05-13 14:31:01

11वां चीन-अमेरिका आर्थिक और व्यापारिक उच्च स्तरीय संवाद अभी अभी समाप्त हुआ है। चीन के कई विशेषज्ञों के विचार में चीन और अमेरिका के बीच व्यापक समान हित मौजूद हैं। केवल तर्कसंगत सहयोग से मौजूदा आर्थिक और व्यापारिक मामलों का समाधान किया जा सकेगा।

इस संवाद के बाद चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की केंद्रीय कमेटी के पोलित ब्यूरो के सदस्य, चीनी उप प्रधानमंत्री, चीन-अमेरिका व्यापक आर्थिक संवाद के चीनी नेता ल्यू हो ने मीडिया के सामने पहली बार चीन की चिंताओं पर प्रकाश डाला। उनके अनुसार चीन और अमेरिका के बीच प्राप्त समझौता समानता और आपसी लाभ का है। बड़े महत्वपूर्ण सैद्धांतिक मामलों पर चीन कोई रियायत नहीं देगा। उन्होंने कहा कि सभी बढ़ाये गये टैरिफ़ को रद्द करना चाहिये, व्यापारिक खरीदारी के आंकड़े को वास्तविकता से मेल खाना चाहिये, और टेक्स्ट में संतुलन का सुधार करना चाहिये। चीन इन तीन मामलों पर बड़ा ध्यान देता है। जिन का समाधान करना होगा। इस की चर्चा में चीनी राष्ट्रीय विकास व सुधार कमेटी के वरिष्ठ शोधकर्ता च्यांग येनशेन ने कहा कि संवाद में चीन ने हमेशा अमेरिका के सामने सहयोग की इच्छा प्रकट की। क्योंकि केवल चीन और अमेरिका के लिये ही नहीं यह इच्छा विश्व पर भी प्रभाव डालेगी। चीन एक बड़े जिम्मेदारना देश के रूप में विश्व के प्रभाव पर विचार कर रहा है।

चीनी सामाजिक विज्ञान अकादमी के विश्व अर्थव्यवस्था और राजनीति के अनुसंधान प्रतिष्ठान के शोधकर्ता काओ लिंगयून के विचार में अमेरिका ने टैरिफ़ युद्ध से अमेरिकी खुदरा विक्रेताओं और उपभोक्ताओं पर दबाव डाला। क्योंकि अमेरिकी बाज़ार की मांग तो हमेशा वहीं रहती है। वह अमेरिका सरकार द्वारा टैरिफ़ बढ़ाने के बाद खत्म नहीं होगी। अंत में चीन से आयातित मालों पर बढ़ाया गया टैरिफ़ अमेरिकी उपभोक्ताओं व खुदरा विक्रेताओं तक पहुंचेगा।

चीनी वाणिज्य मंत्रालय के अंतर्राष्ट्रीय व्यापारिक व आर्थिक सहयोग के अनुसंधान अकादमी के वैदेशिक व्यापार अनुसंधान प्रतिष्ठान के प्रमुख ल्यांग मिंग के अनुसार टैरिफ़ से जुड़े कदम के उन्नयन से चीन के वैदेशिक व्यापार व पूंजी-निवेश में स्पष्ट स्थानांतरण भी किया गया है।

चंद्रिमा

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी