अमेरिका से आयातित आंशिक वस्तुओं पर टैरिफ़ बढ़ाया जाएगा- चीन

2019-05-13 23:01:00

9 मई को अमेरिकी सरकार ने 10 मई से चीन से आयातित 200 अरब डॉलर की वस्तुओं के टैरिफ़ को और 10 प्रतिशत से 25 प्रतिशत तक बढ़ाने का एलान किया। अमेरिका के इस कदम से चीन-अमेरिका आर्थिक व्यापारिक विवाद का स्तर उन्नत हुआ, साथ ही दोनों पक्षों द्वारा विचार-विमर्श के माध्यम से व्यापारिक मतभेद को दूर करने की आम सहमति का उल्लंघन हुआ और दोनों देशों के हितों को नुकसान पहुंचा। यह अंतरराष्ट्रीय समुदाय की आम इच्छा से मेल नहीं खाता है। बहुपक्षीय व्यापारिक व्यवस्था की रक्षा करने, खुद के कानूनी अधिकारों और हितों की रक्षा करने के लिए चीन को विवश होकर अमेरिका में उत्पादित आंशिक वस्तुओं के आयात पर अधिक टैरिफ़ लगाना पड़ा।

“चीन लोक गणराज्य विदेशी व्यापार कानून”और“चीन लोक गणराज्य आयात-निर्यात टैरिफ़ नियम”जैसे कानूनों और अंतरराष्ट्रीय कानून के बुनियादी सिद्धांत के अनुसार चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की केंद्रीय समिति और राज्य परिषद की पुष्टि के मुताबिक, चीनी राज्य परिषद के अधीन टैरिफ़ समिति ने फैसला लिया कि 1 जून, 2019 से ही टैरिफ़ बढ़ाए जाने वाले अमेरिका से आयातित 60 अरब वस्तुओं के आंशिक भागों पर ज्यादा टैरिफ़ लगाया जाएगा, टैरिफ़ दर को उन्नत किया जाएगा, क्रमशः 25 प्रतिशत, 20 प्रतिशत या 10 प्रतिशत का और टैरिफ़ लगेगा। पहले 5 प्रतिशत टैरिफ़ बढ़ाने वाले वस्तुओं पर फिर भी 5 प्रतिशत की टैरिफ़ लगाया जाएगा।

चीन का टैरिफ़ बढ़ाने का कदम अमेरिका के एकतरफावाद और व्यापारिक संरक्षणवाद का जवाब है। चीन को आशा है कि अमेरिका द्विपक्षीय आर्थिक व्यापारिक विचार विमर्श के सही रास्ते पर वापस लौटेगा, चीन के साथ समान प्रयास करते हुए एक ही दिशा की ओर आगे बढ़ेगा, ताकि आपसी सम्मान के आधार पर एक दूसरे के हितों में उभय जीत वाला समझौता संपन्न हो सके।

(श्याओ थांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी