चीनी तकनीक का हानिकारक सिद्धांत झूठ –पीपुल्स डेली

2019-05-19 17:31:00

हाल में ही एक वरिष्ठ अमेरिकी अधिकारी ने ब्रिटेन से चीन के "इंटरनेट के भविष्य को नियंत्रित करने" की संभावना को देखते हुए ध्यान देने की चेतावनी दी। गौरतलब है कि अब ब्रिटेन चीन के दूरसंचार उपकरण निर्माता हुआवेइ को कुछ 5जी नेटवर्क खोलने पर विचार कर रहा है। लेकिन अमेरिका हुआवेइ को "अनिश्चित इकाई" मानने पर ज़ोर दे रहा है।

चीनी तकनीक का हानिकारक सिद्धांत का प्रचार करना अमेरिका द्वारा सियासत का खेल है, जिसका मुख्य उद्देश्य चीन की प्रगति को रोकना है।

दरअसल जर्मन पेटेंट डेटाबेस कंपनी प्लाइटिक्स के आंकड़ों के अनुसार इस साल के मार्च तक 5जी संचार के लिए आवश्यक मानक पेटेंट आवेदनों की संख्या का 34.02 प्रतिशत चीन द्वारा पेश किया गया, जबकि अमेरिका का हिस्सा केवल 14 प्रतिशत था। 2018 में चीन में आर एंड डी कर्मियों की कुल संख्या 41.8 लाख तक पहुँच गई, जो रैंकिंग में दुनिया के प्रथम स्थान पर है। अंतर्राष्ट्रीय वैज्ञानिक थीसिस की कुल संख्या दुनिया के दूसरे स्थान पर है। आविष्कार पेटेंट आवेदनों की संख्या दुनिया के प्रथम स्थान पर है, वैज्ञानिक एवं तकनीकी प्रगति की योगदान दर बढ़कर 58.5% हो गई और देश की व्यापक नवाचार क्षमता दुनिया में 17वें स्थान पर है। चीन ने दुनिया में विज्ञान और प्रौद्योगिकी के विकास के लिए अवसर व प्रोत्साहन दिया और विभिन्न देशों के लिए सहयोग करके एक साथ विकास करने का पुल भी बनाया है।

तकनीकी क्रांति और औद्योगिक परिवर्तन का एक नया दौर वैश्विक नवाचार तरीके को बदल रहा है। "तकनीकी शीत युद्ध" को उकसाकर तकनीकी प्रगति की गति को नहीं रोक सकता। खुले तौर पर नवाचार से ही विकास किया जा सकता है।

(नीलम)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी