चीनः अमेरिका ने अति दबाव देने से अनुचित मांग पेश की

2019-05-20 19:01:00

चीन और अमेरिका के बीच 11वें दौर की आर्थिक व व्यापारिक वार्ता में कोई समझौता न होने का मूल कारण है कि अमेरिका ने अति दबाव देने से अनुचित मांग पेश की है। यह बात चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू खांग ने 20 मई को पेइचिंग में आयोजित एक नियमित संवाददाता सम्मेलन में कही।

लू खांग ने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने हाल में कहा कि वास्तव में अमेरिका और चीन के बीच एक समझौता तैयार हो चुका है। लेकिन चीन ने समझौते को तोड़ा। इसकी चर्चा में लू खांग ने कहा कि मुझे पता नहीं कि अमेरिका का तथाकथित समझौता क्या है। संभवतः अमेरिका के पास खुद के हित में एक समझौता है, फिर भी चीन ने कभी मंजूरी नहीं दी थी। चीन और अमेरिका के बीच 11वें तौर की आर्थिक व व्यापारिक वार्ता में समझौते पर न पहुंचने का कारण अमेरिका द्वारा अति दबाव देने से अनुचित मांग पेश की गयी है। अमेरिका की यह कार्यवाई बेकार है। पिछले 11 दौर की वार्ता में चीन ने सदिच्छा और रचनात्मक रुख प्रकट किया, जो अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के लिए सर्वविदित है। मैं फिर एक बार यह दोहराना चाहता हूं कि चीन-अमेरिका आर्थिक व व्यापारिक वार्ता केवल एक दूसरे का सम्मान करने, समानता और आपसी लाभ के सही रास्ते से आगे चलती, तो भी सफलता पाने की उम्मीद होगी।

हुआवेइ कंपनी के प्रति यूरोपीय पक्ष के जांच परिणाम की चर्चा में चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू खांग ने कहा कि यूरोपीय पक्ष की जांच से जाहिर है कि हुआवेइ कंपनी स्वच्छ है। साथ ही अमेरिका द्वारा राष्ट्रीय शक्ति से अन्य देशों के उद्यमों पर दबाव बनाने का अनुचित रवैया भी जाहिर है।

(श्याओयांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी