चीन लगातार बौद्धिक संपदा के संरक्षण पर देता है जोर

2019-05-24 16:31:01

गत वर्ष अमेरिका ने चीन-अमेरिका व्यापारिक संघर्ष पैदा किया। इसके बाद अमेरिका ने लगातार चीन पर विवश होकर तकनीकी हस्तांतरण का आरोप लगाया। इस पर चीनी विशेषज्ञों व विद्वानों ने कहा कि यह केवल अमेरिका द्वारा चीन के विकास पर दबाव डालने के लिये ढूंढ़ा गया एक बहाना है। जिस का तथ्यात्मक आधार नहीं है। विशेषज्ञों ने कहा कि चीन में बौद्धिक संपदा का संरक्षण लगातार मजबूत हो रहा है। चीन विदेशी उद्यमों समेत सभी उद्यमों का समान व्यवहार करता है।

प्रसिद्ध अर्थशास्त्री, पेइचिंग विश्वविद्यालय के राष्ट्रीय विकास अनुसंधान प्रतिष्ठान के मानद प्रधान लिन ईफ़ू ने कहा कि विदेशी कंपनियों ने उच्च तकनीक चीनी बाजार में लायी है, जो बाजार की प्रतिस्पर्द्धा से मेल खाने के लिये एक आवश्यक चुनाव ही है। लिन के अनुसार अमेरिकी कंपनी ज़रूर तकनीक लेकर चीन में पूंजी लगाती है। पर क्या इस में मजबूरन तकनीकी हस्तांतरण मौजूद है?वास्तव में वह बिल्कुल नहीं है। क्योंकि अगर अमेरिकी उद्यम चीन में उत्पाद करना और चीनी बाजार में प्रवेश करना चाहते हैं। अगर सबसे अच्छी तकनीक का प्रयोग नहीं किया गया, तो बाजार में उन के मालों की प्रतिस्पर्द्धा शक्ति भी कमजोर होगी। इसलिये वे सबसे अच्छी तकनीक लेकर चीन में उत्पादन करते हैं, यह उन की अपनी मांग ही है, जो चीन की जबरदस्ती नहीं है।

चंद्रिमा

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी