अमेरिका ने "आपात स्थिति" के नाम पर मध्य-पूर्व के देशों को हथियारों की बिक्री बढ़ाई

2019-05-25 16:01:01

अमेरिकी सरकार ने 24 मई को संसदीय समीक्षा प्रक्रिया को दरकिनार कर "आपात स्थिति" के नाम पर जॉर्डन, संयुक्त अरब अमीरात और सऊदी अरब को हथियारों की बिक्री बढ़ाने पर जोर दिया। कांग्रेस में दोनों पार्टी के कुछ सांसदों ने इस पर असंतोष व्यक्त किया।

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने एक बयान में कहा कि यूएस आर्म्स एक्सपोर्ट कंट्रोल एक्ट के संबंधित प्रावधानों के अनुसार, उन्होंने स्टेट काउंसिल को निर्देश दिया कि जॉर्डन, संयुक्त अरब अमीरात और सऊदी अरब को कुल 8.1 अरब डॉलर मूल्य के 22 सैन्य हथियारों को बेचने के लिए तुरंत बढ़ावा दें। दिए गए हथियारों में सैन्य रखरखाव उपकरण, खुफिया उपकरण, निगरानी उपकरण, टोही उपकरण और गोला-बारूद शामिल हैं।

बयान में कहा गया है कि वर्तमान परियोजना अमेरिकी सहयोगियों का समर्थन करने, मध्य पूर्व में स्थिरता को बढ़ावा देने और ईरान के हमले को रोकने के लिये स्थापित हुआ है। यह भी बताया कि प्रासंगिक हथियार वितरण की देरी से इन देशों की रक्षा पर गंभीर प्रभाव पड़ेगा।

रिपब्लिकन सीनेटर मार्को रूबियो ने इस पर कहा कि अमेरिकी सरकार ने कांग्रेस को दरकिनार कर मध्य पूर्वी देशों को हथियारों की बिक्री को बढ़ावा दिया, यह एक "बड़ी गलती" है। डेमोक्रेटिक सीनेटर क्रिस मर्फी का मानना है कि यह एक "खतरनाक मिसाल" है।भविष्य में, अमेरिकी राष्ट्रपति के कांग्रेस के नियंत्रण के बिना ही हथियार बेचने की आशंका होगी।

अंजली

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी