अमेरिका से चीनी वस्तुओं पर कर बढ़ाने का प्रभाव काबू में है

2019-05-26 15:31:00

हाल ही में अमेरिका ने 2 खरब अमेरिकी डॉलर लागत की चीनी वस्तुओं पर 25 प्रतिशत अतिरिक्त कर लगाया ।चीनी उप उद्योग और सूचनाकरण मंत्री वांग चीचुन ने हाल ही में मीडिया को दिये एक इंटरव्यू में बताया कि कर वृद्धि की अमेरिकी कार्रवाई चीन ,अमेरिका और पूरे विश्व के प्रतिकूल है ।चीन में कुछ व्यवसायों और उद्यमों को लागत की बढ़ोतरी और अनुबंधों की कमी जैसे दबाव का सामना करना पड़ेगा ,लेकिन उस का प्रभाव काबू में लाया जा सकता है ।इस के बावजूद चीन उद्योग क्षेत्र में वैदेशिक खुलेपन का विस्तार जारी रखेगा ।

वांग चीचुन के परिचय के अनुसार अमेरिका के प्रति 2 खरब अमेरिकी डॉलर वस्तुओं का निर्यात वर्ष 2018 में अमेरिका के प्रति चीनी निर्यात राशि का 41.8 प्रतिशत था ,लेकिन वह सिर्फ़ चीन के कुल वैदेशिक निर्यात का 8 प्रतिशत था। जो 2 खरब अमेरिकी डॉलर लागत की चीनी वस्तुओं पर अतिरिक्त टैरिफ लगाया गया है, उनमें अधिकांश औद्योगिक उत्पाद हैं ,जिनकी धनराशि लगभग 1 खरब 80 अरब अमेरिकी डॉलर है। इससे चीन के मशीन, इलेक्ट्रॉनिक्स ,हल्के उद्योग ,टेक्सटाइल और रासायनिक उद्योगों पर प्रभाव पड़ा है। उन्होंने बताया कि इन 2 खरब अमेरिकी डॉलर वस्तुओं का उत्पादन करने वाले उद्यमों में विदेशी पूंजी से संचालित उद्यमों का अनुपात 50 प्रतिशत है, जिनमें से बहुत से अमेरिकी उद्यम हैं। इन अमेरिकी उद्यमों के उत्पादों के बाज़ारों में एक बड़ा हिस्सा अमेरिकी बाज़ार का है ।कहा जा सकता है कि अतिरिक्त टैरिफ़ लगाने से न सिर्फ चीनी उद्यमों पर बुरा प्रभाव पड़ा है ,बल्कि अमेरिकी उद्यमों और अमेरिकी उपभोक्ताओं पर भी बुरा असर पड़ रहा है। इसके अलावा इससे अंतरराष्ट्रीय औदोयिगक शृंखला को हानि भी पहुंची है।

इंटरव्यू के में वांग ची चुन ने कहा कि चीन पहले की तरह विदेशी निवेशकों का स्वागत करता रहेगा और विदेशी निवेशकों के लिए अधिक स्थिर ,न्यायपूर्ण ,पारदर्शी वातावरण तैयार करता रहेगा।(वेइतुंग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी