टिप्पणी:चीन ने अमेरिका में अध्ययन करने की पूर्व चेतावनी दी, शैक्षिक आदान-प्रदान और सहयोग को आपसी सम्मान चाहिए

2019-06-03 19:31:00

चीन और अमेरिका के बीच कूटनीतिक संबंध की स्थापना के बाद पिछले 40 सालों में शैक्षिक सहयोग दोनों देशों के बीच जबरदस्त सेतु बन चुका है। बड़ी संख्या में चीनी विद्यार्थी अमेरिका में अपना अध्ययन पूरा कर स्वदेश वापस लौटे और चीनी सामाजिक विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया। अमेरिका को चीनी विद्यार्थियों की भागीदारी से आर्थिक वृद्धि और सृजनात्मक विकास की प्रेरित शक्ति मिली। वर्तमान में अमेरिका में अध्ययन करने वाले विदेशी विद्यार्थियों में चीनी विद्यार्थी सबसे ज्यादा हैं, जो कुल विदेशी विद्यार्थियों का एक तिहाई भाग बनता है। साल 2017 में चीनी विद्यार्थियों ने अमेरिका के अर्थतंत्र को 13.9 अरब डॉलर का योगदान दिया। शैक्षिक आदान-प्रदान और सहयोग चीन-अमेरिका सेवा व्यापार का अहम विषय बन चुका है।

लेकिन, अमेरिका के कुछ राजनीतिज्ञों ने“शून्य-जमा खेल”की विचारधारा अपनाकर व्यापार, विज्ञान, तकनीक आदि क्षेत्रों में चीन पर दबाव डाला और साथ ही शैक्षिक सहयोग क्षेत्र में भी हस्तक्षेप किया। उन्होंने कंफ्यूशियस कॉलेज को चीन द्वारा अमेरिका में राजनीतिक प्रभाव विस्तार करने के साधन वाला बदनाम किया और चीनी विद्यार्थियों पर“जासूस”का झूठा आरोप लगाया। यहां तक कि उन्होंने चीनी विद्वानों की भागीदारी वाले प्रयोगशालाओं को बंद किया और जानबूझकर अमेरिकी समाज में घबराहट का माहौल बनाया। इसका वास्तविक उद्देश्य उनके राजनीतिक इरादे के लिए है।

एक मशहूर चीनी शिक्षा ग्रुप द्वारा जारी“2019 चीनी विद्यार्थियों की इच्छा”शीर्षक जांच रिपोर्ट के मुताबिक, जांच में भागीदारी वाले 20.14 प्रतिशत लोगों ने ब्रिटेन को अपना प्रथम गंतव्य स्थल चुना, अमेरिका को चुनने वालों की संख्या में 17.05 प्रतिशत तक गिर गई।

चीन अमेरिका समेत विभिन्न देशों के साथ शैक्षिक आदान-प्रदान और सहयोग को मजबूत करना चाहता है, लेकिन सहयोग एकतरफ़ा नहीं है, उसे दो तरफ़ा और आपसी सम्मान वाला होना चाहिए। चीन शैक्षिक खुलेपन के विस्तार में लगा हुआ है। साल 2018 में विदेशों में चीनी विद्यार्थियों की कुल संख्या 6.6 लाख 2100 थी, जो साल 2017 की तुलना में 8.83 प्रतिशत की वृद्धि हुई। इसी दौरान सारी दुनिया में 196 देशों और क्षेत्रों के 4.9 लाख 2200 विद्यार्थी चीन में अध्ययन करने आए। चाहे अंतरराष्ट्रीय राजनीतिक और आर्थिक संबंधों में परिवर्तन क्यों न आ जाए, शैक्षिक आदान-प्रदान और सहयोग को अपना आत्मविश्वास और स्थिरता बनाए रखना चाहिए। भविष्य में चीन शैक्षिक खुलेपन को और विस्तार करेगा और विश्व के विभिन्न स्थलों से आए विद्यार्थियों का चीन में अध्ययन करने और चीन की विकास प्रक्रिया में भाग लेने का स्वागत करता है।

(श्याओ थांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी