चीन पर "रिविजनल पावर" का आरोप लगाना सही नहीं: चीनी विदेश मंत्रालय

2019-06-03 20:01:01

अमेरिकी रक्षा मंत्रालय ने 1 जून को अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित "अमेरिकी रक्षा विभाग की हिन्द-प्रशांत रणनीति रिपोर्ट" में चीन पर "रिविजनल पावर" होने का आरोप लगाया। इसे लेकर चीनी विदेश प्रवक्ता कंग श्वांग ने कहा कि यह आरोप बिल्कुल निराधार है। चीन को "रिविजनल पावर" का आरोप लगाना सही नहीं है।

चीनी प्रवक्ता ने 3 जून को आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि चीन हमेशा अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था का रक्षक रहा है। चीन प्रथम संयुक्त राष्ट्र चार्टर पर हस्ताक्षर करने वाला देश था। चीन ने सौ से अधिक अंतर्राष्ट्रीय संगठनों में भाग लिया है और पाँच सौ से अधिक बहुपक्षीय संधियों पर हस्ताक्षर किये। चीन भी संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में सबसे ज्यादा शांति मिशन सैनिक भेजने वाला देश है। चीनी प्रवक्ता ने कहा कि अमेरिका ने एकतरफावाद, संरक्षणवाद और धौंस जमाने की कार्यवाइयां कायम की हैं। अमेरिका ने जलवायु परिवर्तन के पेरिस समझौते तथा ईरानी नाभिकीय सवाल पर समझौते में से हटा दिया।

चीनी प्रवक्ता ने कहा कि शांति, सहयोग, विकास और उभय जीत के लिए प्रयास करने का अखंडनीय रूझान नजर आ रहा है और वह विश्व जनता की समान अभिलाषा है। किसी भी क्षेत्रीय सहयोग संरचना को ऐतिहासिक प्रवृत्ति और जनमत के अनुकूल होना चाहिये। आशा है कि अमेरिका अपने हित और क्षेत्रीय देशों के समान हितों की दृष्टि से शांति, सुस्थिरता और विकास के लिए हितकारी काम करेगा।

( हूमिन )

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी