अमेरिका से डब्ल्यूटीओ ढांचे में चीन-अमेरिका आर्थिक व्यापारिक घर्षण के समाधान का आग्रह- पाक विद्वान

2019-06-07 17:01:00

पाकिस्तान के राष्ट्रीय विज्ञान तकनीक विश्वविद्यालय के चीन शास्त्र अनुसंधान केंद्र के उप प्रधान ज़मीर अवान ने 6 जून को चाइना रेडियो इन्टरनेशनल के संवाददाता को दिए एक इन्टरव्यू में कहा कि अमेरिका द्वारा छेड़ा गया आर्थिक व्यापारिक घर्षण न केवल चीन और अमेरिका के अर्थतंत्र को नुकसान पहुंचेगा, बल्कि विश्व आर्थिक स्थिरता को भी क्षति पहुंचेगी। उन्होंन अमेरिका से विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) के ढाचे में वापस लौटकर चीन के साथ वार्ता के माध्यम से व्यापारिक घर्षण के समाधान का आग्रह किया।

प्रोफेसर ज़मीर ने कहा कि अमेरिका ने टैरिफ़ बढ़ाने आदि तरीके से चीन के साथ आर्थिक व्यापारिक घर्षण छेड़ा, वह चीन के शांतिपूर्ण विकास पर चिंतित है। अमेरिका द्वारा दी गई बार-बार धमकी के सामने चीन ने सतर्कता अपनायी। अमेरिका की कार्रवाई से न केवल चीन के हितों को नुकसान पहुंचेगा, बल्कि अमेरिका को खुद को भी गंभीर क्षति पहुंचेगी। क्योंकि इससे अमेरिका में वस्तुओं की कीमत बढ़ेगी। टैरिफ़ बढ़ाने की लागत अमेरिका उपभोक्ताओं पर लगायी जाएगी, इससे आम अमेरिकी नागरिकों के हितों को नुकसान पहुंचेगा। अमेरिका की वस्तुओं के खिलाफ़ चीन ने विवश होकर टैरिफ़ बढ़ाने से अमेरिकी उद्योगों को बड़ा नुकसान पहुंचेगा। इनसे अमेरिकी सरकार प्रभावित होगी।

प्रोफेसर ज़मीर ने कहा कि विश्व में पहले और दूसरे बड़े आर्थिक समुदाय के रूप में अमेरिका और चीन की हर एक कार्रवाई विश्व के दूसरे देशों को प्रभावित करती है। चीन-अमेरिका आर्थिक व्यापारिक घर्षण का स्तर उन्नत होने से पूरी दुनिया में आर्थिक विकास पर असर पड़ेगा। उन्होंने आशा जताई कि अमेरिका डब्ल्यूटीओ के ढांचे में चीन के साथ वार्ता करेगा, समानता, आपसी लाभ और ईमानदारी के आधार पर शांतिपूर्ण वार्ता के माध्यम से सवाल का समाधान करेगा।

(श्याओ थांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी