फिलिस्तीन ने अमेरिकी राजदूत के पश्चिमी किनारे के कुछ हिस्सों को इजरायल में शामिल करने की टिप्पणी का विरोध किया

2019-06-09 16:31:00

इजरायल में तैनात अमेरिकी राजदूत डेविड फ्राइडमैन ने हाल ही में कहा कि इजरायल को पश्चिमी किनारे के कुछ हिस्सों को इजरायल में शामिल करने का अधिकार है। फिलिस्तीनी पक्ष ने 8 जून को बयान जारी कर इसकी निंदा की।

फिलिस्तीनी राष्ट्रपति के सलाहकार नबील शाथ ने 8 तारीख को "वॉयस ऑफ फिलिस्तीन" रेडियो पर कहा कि फिलिस्तीनी नेता और फिलिस्तीनी नागरिक अमेरिकी राजदूत की इस टिप्पणी का पूरी तरह से विरोध करते हैं। उन्होंने कहा कि इजरायल को पूर्वी येरुशलम सहित फिलिस्तीनी क्षेत्रों पर कब्जा समाप्त करना है। यह फिलिस्तीन और इजरायल के बीच शांति हासिल होने का आधार है। फिलिस्तीनी लोग अपनी जमीन की पूरी तरह से रक्षा करेंगे और फिलिस्तीन को कमजोर करने वाले "सेंचुरी एग्रीमेंट" जैसी योजनाओं को हराने के लिए संघर्ष करते रहेंगे। फिलिस्तीन मुक्ति संगठन (पीएलओ) के महासचिव साएब एरेकाट ने सोशल मीडिया पर फ्राइडमैन के बयान की आलोचना की। उन्होंने कहा कि यह शांति का मार्ग नहीं है, लेकिन अंतहीन संघर्षों को जन्म देगा।

फिलिस्तीनी राष्ट्रीय मुक्ति आंदोलन (फतह), पाकिस्तान इस्लामिक प्रतिरोध आंदोलन (हमास), और इस्लामिक जिहाद (जिहाद) ने भी क्रमशः बयान जारी कर अमेरिकी राजदूत की टिप्पणी पर निंदा की। उनका मानना है कि इससे फिलिस्तीन-इजरायल की शांति प्रक्रिया में बाधा पहुंचेगी और क्षेत्रीय सुरक्षा व स्थिरता को खतरा पैदा होगा।

इज़राइल मीडिया द्वारा प्रसारित एक रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिकी राजदूत फ्राइडमैन ने मीडिया के साथ एक साक्षात्कार में कहा कि इजरायल को पश्चिमी किनारे के कुछ हिस्सों को इजरायल में शामिल करने का अधिकार है। फिलिस्तीन और इजरायल के बीच शांति हासिल होने के बाद ही इजरायल को पश्चिमी किनारे में बने रहने की जरूरत है।

अंजली

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी