पश्चिमी भारत में 3 लाख लोग उष्ण प्रदेशीय चक्रवातों से बचाव के लिए सुरक्षित स्थानों पर गए

2019-06-13 11:31:01

12 जून को भारतीय आंतरिक मंत्रालय ने कहा कि वायु चक्रवात 24 घंटों के भीतर पहुँचने के कारण पश्चिमी भारत के गुजरात में बड़े पैमाने पर लोगों को सुरक्षित स्थानों पर स्थानांतरित करने की योजना शुरू की और करीब 3 लाख लोगों को सुरक्षित क्षेत्रों में भेजा जाएगा।

भारतीय आंतरिक मंत्रालय के प्रवक्ता ने उस दिन बयान में कहा कि उष्ण कटिबंधीय चक्रवात "वायु" जल्द ही पश्चिमी भारत में पहुँचेगा और गुजरात के अधिकांश हिस्सों और महाराष्ट्र के कई हिस्से इसकी चपेट में आएंगे। गुजरात में बड़े पैमाने पर लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजने की योजना शुरू की, करीब 3 लाख लोगों को 700 शरणार्थी शिविरों में भेजा जाएगा, इस दौरान स्कूल भी 14 तारीख तक बंद रहेंगे।

कहा जाता है कि वर्तमान में चक्रवात का केंद्र मुंबई से लगभग 200 किलोमीटर दूर समुद्र में स्थित है, 13 तारीख को गुजरात के तटीय क्षेत्र में पहुँचेगा। 12 तारीख को भारतीय आंतरिक मंत्रालय का कहना है कि 39 राष्ट्रीय आपदा राहत बल ने लोगों को बचाने के लिए प्रभावित क्षेत्रों में प्रवेश किया है। इसके अलावा सेना के 34 बचाव दल आदेश की प्रतीक्षा करेंगे।

भारतीय मीडिया रिपोर्टों के अनुसार यह उष्ण कटिबंधीय चक्रवात भारतीय पश्चिमी तट में अरब सागर पर बना है। अब चक्रवात केंद्र में सबसे बड़ी वायु गति 120 किलोमीटर प्रति घंटा है, इसके भारतीय समुद्र तट पर पहुँचने के समय गति बढ़कर 145 से 170 किलोमीटर प्रति घंटा होने की आशंका है। पिछले 20 वर्षों में पश्चिमी भारत में सबसे मज़बूत चक्रवात है। आलिया

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी