चीन डब्ल्यूटीओ के चीनी कृषि भत्ते के प्रति प्रतिकूल फैसले को लागू करेगा

2019-06-14 15:01:00

13 जून से विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) से मिली ख़बर के अनुसार चीन डब्ल्यूटीओ द्वारा इस फरवरी में चीनी कृषि भत्ते के प्रति लिये गये प्रतिकूल फैसले को लागू करेगा। इसके अलावा चीन ने इस मामले को उठाने वाले पक्ष अमेरिका के साथ कार्यांवयन समय पर समानता बनायी है। चीन अप्रैल 2020 से पहले धान और गेहूं की भत्ते नीति का सुधार पूरा करेगा ताकि डब्ल्यूटीओ के संबंधित नियमों के अनुरूप हो सके।

ध्यान रहे सितंबर 2016 में अमेरिका ने डब्ल्यूटीओ से मुकदमा दायर कर कहा कि धान, गेहूं और मकई के प्रति चीन सरकार के भत्ते चीन के वादे से अधिक है ।28 फरवरी 2019 को डब्ल्यूटीओ की एक मध्यस्थ समिति ने फैसला किया कि धान और गेहूं के प्रति चीन का भत्ता नियमों का उल्लंघन है ,लेकिन मकई के प्रति मुकदमा खारिज किया है ।इस मई में डब्ल्यूटीओ स्थित चीनी प्रतिनिधि मंडल ने कहा कि चीन डब्ल्यूटीओ के सदस्यों के संबंधित कर्तव्यों का सम्मान करता है और फैसला लागू करेगा ,लेकिन चीन को एक समुचित कार्यांवयन समय की ज़रूरत है और अमेरिका के साथ वार्ता करेगा।

गौरतलब है कि यह पहली बार नहीं है कि चीन अपने लिए प्रतिकूल फैसला लागू करता है। उदाहरण के लिए वर्ष 2014 में डब्ल्यूटीओ ने फैसला किया था कि दुर्लभ मिट्टी के निर्यात पर चीन का नियंत्रण नियमों का उल्लंघन है। चीन ने यह फैसला स्वीकार किया ।इस सब से ज़ाहिर है कि चीन डब्ल्यूटीओ नियमों का सम्मान करता है।

स्थानीय विशेषज्ञों के विचार में चीन अमेरिका व्यापार संघर्ष की पृष्ठभूमि में चीन ने अपने लिए प्रतिकूल फैसला लागू करने से यह ज़ाहिर किया है कि चीन अपने ठोस कदम से बहुपक्षवादी व्यापार व्यवस्था की सुरक्षा कर रह है।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी