टिप्पणीः हांगकांग को डांवाडोल स्थिति में डालना किसी के भी हित में नहीं

2019-06-15 16:31:00

हाल में कुछ अमेरिकी कांग्रेस के सांसदों ने फिर एक बार हांगकांग के मानवाधिकार और लोकतंत्र विधेयक की पुनः प्रस्तुति की और अमेरिका सरकार से हर साल हांगकांग के स्वशासन की स्थिति की जांच करने की मांग की। ताकि 1992 अमेरिका-हांगकांग नीति कानून के मुताबिक हांगकांग को एक स्वतंत्र टैरिफ क्षेत्र के खास व्यवहार देने पर निर्णय ले सके। चीन के अंदरूनी मामलों में अमेरिकी राजनयिकों ने धृष्ठतापूर्वक हस्तक्षेप किया है, जिससे पूर्ण रूप से अमेरिका द्वारा चीन के विकास से रोकने और चीन पर अति दबाव डालने की कुचेष्टा प्रतिबिंबित है। लेकिन सब लोग जानते हैं कि हांगकांग को डांवाडोल स्थिति में डालना किसी के लिए भी लाभदायक नहीं है।

चीन का एक विशेष प्रशासनिक क्षेत्र होने के नाते 1997 में हांगकांग की मातृभूमि की गोद में वापसी के बाद हांगकांग हमेशा बुनियादी कानून के मुताबिक हांगकांग वासियों द्वारा हांगकांग का प्रशासन किया जाता है और उच्च स्तरीय स्वतंत्र प्रशासन करता है। हांगकांग में एक देश दो व्यवस्था की नीति का सफल कार्यान्वयन किया गया है। मानवाधिकार और स्वतंत्र हांगकांग में पूरी गारंटी दी जाती है। हांगकांग के निवासियों को व्यापक स्वतंत्रता मिलती है।

वास्तव में अमेरिका-हांगकांग नीति कानून अमेरिका द्वारा चीन के अंदरूनी मामलों में हस्तक्षेप करने का एक सबूत है। अमेरिका हर साल एक संबंधित रिपोर्ट जारी कर हांगकांग के मामलों की मनमानी चर्चा करता है। हालिया चीन-अमेरिका व्यापार विवाद के तीव्र होने की पृष्ठभूमि में अमेरिकी सीनेट में हांगकांग मानवाधिकार व लोकतंत्र विधेयक पारित किया गया, जिस का मकसद हांगकांग को खास उदारता देने या न देने के बहाने पर चीन पर अति दबाव डालना है।

हांगकांग को डांवाडोल स्थिति में डालना अमेरिका समेत किसी भी पक्ष के लिए लाभदायक नहीं है। व्यापारिक दृष्टिकोण से देखा जाए अमेरिका हांगकांग के प्रमुख व्यापार साझेदारियों में से एक है। हांगकांग की समृद्धि व स्थिरता अमेरिका के हित में है। 2009 से अमेरिका को हांगकांग के साथ व्यापार करने से सब से बड़ा अनुकूल व्यापारिक घाटा मिला है। पिछले दस सालों में अनुकूल व्यापारिक घाटे की कुल रकम 2.97 खरब अमेरिकी डॉलर तक पहुंची है। पूंजी निवेश के दृष्टिकोण से हांगकांग अमेरिका की प्रत्यक्ष पूंजी को आकर्षित करने वाला गंतव्य स्थल है। 2017 में हांगकांग में अमेरिका का प्रत्यक्ष निवेश 81 अरब अमेरिकी डॉलर था। यदि हांगकांग की समृद्धि व स्थिरता खराब होती है, तो व्यापारिक वातावरण खराब होगा। हांगकांग में अमेरिकी कारोबारों को ज़रूर नुकसान होगा। अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय केंद्रों में से एक अगर हांगकांग में अस्थिरता आने पर अमेरिका की वित्तीय संस्थाओं पर अवश्य ही बुरा असर पड़ेगा।

हांगकांग का मामला चीन का अंदरूनी मामला है। हांगकांग अच्छा है या नहीं केवल हांगकांग के निवासियों को बोलने का हक है। किसी भी देश या बाहरी शक्तियों के पास हस्तक्षेप करने का अधिकार नहीं है। चीन बाहरी शक्तियों के हांगकांग के अंदरूनी मामलों और चीन के अंदरूनी मामलों में दखलंदाजी को कतई स्वीकार नहीं करेगा। अमेरिकी राजनयिकों को साफ़ साफ़ जानना चाहिए कि हांगकांग को डांवाडोल स्थिति में डालना किसी के भी हित में नहीं है। उन्हें चीन-अमेरिका आपसी विश्वास व सहयोग के हित में और अधिक काम करना चाहिए।

(श्याओयांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी