चीन और डीपीआरके के सर्वोच्च नेताओं के बीच वार्ता हुई

2019-06-21 11:02:00

चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव, राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने 20 जून को प्योंगयांग में कोरियाई वर्कर्स पार्टी के अध्यक्ष, राज्य परिषद के अध्यक्ष किम जोंग ऊन के साथ वार्ता की। दोनों ने सहमति प्राप्त की है कि चीन और डीपीआरके नयी ऐतिहासिक शुरुआत में हाथ मिलाकर दोनों के बीच संबंधों का नया अध्याय जोड़ेंगे।

शी चिनफिंग ने कहा कि गत वर्ष से मैं ने कामरेड अध्यक्ष के साथ चार बार भेंट की हैं जिससे दोनों देशों के बीच संबंधों का नया अध्याय जोड़ा गया है। इस साल चीन और डीपीआरके के बीच संबंधों की स्थापना की 70वीं जयंती है। विश्वास है कि हम संयुक्त रूप से दोनों देशों के बीच मैत्री का नया काल स्थापित कर सकेंगे। चीन और डीपीआरके दोनों कम्युनिस्ट पार्टी के नेतृत्वकारी समाजवादी देश हैं। समान विचारधारा और लक्ष्य दोनों के बीच संबंधों का विकास करने की शक्ति है। चीन और डीपीआरके के बीच मैत्री दोनों देशों की जनता की समान अभिलाषा और दोनों देशों के मूल हितों से अनुकूल है, जो अंतर्राष्ट्रीय स्थितियों के परिवर्तन से नहीं बदलेगा।

किम जोंग ऊन ने कहा कि कामरेड महासचिव की यात्रा कोरियाई वर्कर्स पार्टी, सरकार और जनता के लिए महान प्रोत्साहन और राजनीतिक समर्थन है। प्योंगयांग शहर की सड़कों में ढ़ाई लाख लोगों ने कामरेड महासचिव का स्वागत किया है। कोरिया-चीन मैत्री को पीढ़ी दर पीढ़ी बनाये रखना हमारी पार्टी और सरकार का अविचल रुख है। मैं कामरेड महासचिव के साथ संपन्न मैत्री और सहमतियों को महत्व देता हूं, और कामरेड महासचिव की यात्रा के जरिये दोनों पक्षों के बीच रणनीतिक संपर्क को बढ़ावा देने, तथा द्विपक्षीय संबंधों को नये स्तर पर पहुंचाने को तैयार हूं।

शी चिनफिंग ने कहा कि कोरियाई प्रायद्वीप की स्थितियां क्षेत्रीय शांति व स्थायीत्व से संबंधित हैं। बीते डेढ़ साल में प्रायद्वीप के सवाल का वार्ता से समाधान करने की संभावना नजर आयी है। अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की व्यापक आशा है कि डीपीआरके और अमेरिका के बीच वार्ता सफल होगी। चीन प्रायद्वीप सवाल के राजनीतिक समाधान का समर्थन करता है। चीन डीपीआरके की सुरक्षा और विकास के लिए मदद प्रदान करने और प्रायद्वीप के गैर-परमाणुकरण का लक्ष्य साकार करने के लिए सकारात्मक भूमिका अदा करने को तैयार है।

किम जोंग ऊन ने प्रायद्वीप की स्थितियों की जानकारी देते हुए कहा कि बीते एक साल में डीपीआरके ने अनेक सकारात्मक कदम उठाये हैं, पर संबंधित पक्षों की सकारात्मक प्रतिक्रियाएं नहीं की गयीं। आशा है कि संबंधित पक्ष डीपीआरके के साथ साथ समान दिशा में प्रयास करेंगे ताकि प्रायद्वीप सवाल की वार्ता में सफल प्राप्त हो सके। इस संदर्भ में डीपीआरके चीन के साथ अधिक तौर पर संपर्क और समंव्य करेगा।

( हूमिन )

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी