डीपीआरके और अन्य देशों के विद्वानों ने शी चिनफिंग की डीपीआरके यात्रा की प्रशंसा की

2019-06-22 15:31:00

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने 20 और 21 जून को डीपीआरके की राजकीय यात्रा की, जिसपर अंतर्राष्ट्रीय समुदाय का ध्यान केन्द्रित हुआ। डीपीआरके और अन्य देशों के विद्वानों का विचार है कि चीन-डीपीआरके के बीच राजनयिक संबंध स्थापना की 70वीं वर्षगांठ पर शी चिनफिंग की डीपीआरके यात्रा का बड़ा और गहरा महत्व है। इससे चीन-डीपीआरके की परंपरागत मित्रता मज़बूत हुई है और कोरियाई प्रायद्वीप के नाभिकीय सवाल का राजनीतिक समाधान बढ़ाया गया।

वियतनाम की कम्युनिस्ट पार्टी के पूर्व प्रचार मंत्री एवं चीन स्थित पूर्व राजदूत त्रान वन लवत ने कहा कि यह 14 सालों बाद चीनी कम्युनिस्ट पार्टी और देश के सर्वोच्च नेता की फिर से डीपीआरके यात्रा है। चीन-डीपीआरके के बीच राजनयिक संबंध स्थापना की 70वीं वर्षगांठ पर इस यात्रा का दोनों देशों के बीच मित्रता मजबूत करने में बड़ा महत्व है।

दक्षिण कोरिया के सुंगकयूंकवन विश्वविद्यालय के चीनी अनुसंधान केन्द्र के प्रमुख ली ही-ओके ने कहा कि शी चिनफिंग की डीपीआरके यात्रा ने कोरियाई प्रायद्वीप और क्षेत्र की स्थाई शांति और स्थिरता में योगदान किया है।

जापान के क्योरिन विश्वविद्यालय के प्रोफेसर लुडी ने कहा कि डीपीआरके में हुई मुलाकात में शी चिनफिंग ने फिर एक बार कोरियाई प्रायद्वीप के नाभिकीय सवाल पर चीन का हमेशा का रुख स्पष्ट किया है, यानी कि वार्ता के ज़रिए तनाव कम होगा और अंततः सवाल का शांतिपूर्ण समाधान होगा। इस यात्रा से फिर एक बार कोरियाई प्रायद्वीप के मामलों में चीन की सक्रिय और रचनात्मक भूमिका ज़ाहिर हुई है।

इसके अलावा, अमेरिका और यूरोप के विशेषज्ञों ने भी शी चिनफिंग की डीपीआरके यात्रा की प्रशंसा की है।

(ललिता)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी