विकास अधिकार का पारस्परिक तौर पर समादर करना चाहिये:डाई पींग क्वो

2019-06-24 17:31:01

चीन के भूतपूर्व स्टेट कौंसुलर डाई पींग क्वो ने 24 जून को बाकू इंटरनेशनल फोरम के तहत पेइचिंग उच्च स्तरीय सभा के उद्घाटन समारोह में कहा कि चीन दूसरे देशों के विकास अधिकार का समादर करता है, और आशा है कि दूसरे देश भी चीन के विकास अधिकार का समादर करेंगे।

डाई ने भाषण देते हुए कहा कि नये चीन की स्थापना के 70 सालों और खासकर इधर के चालीस सालों में भारी उपलब्धियां हासिल की गयी हैं। लेकिन चीन अभी तक एक विकासमान देश है। प्रति व्यक्ति के लिए जीडीपी, कारोबारों की संरचना, नवाचार क्षमता, विकास के संतुलन, सामाजिक गारंटी और शिक्षा स्तर आदि दृष्टि से चीन विकसित देश नहीं है। विकास का अधिकार बुनियादी मानवाधिकार है। कोई भी चीन को विकास के अपने अधिकार से वंचित नहीं कर सकेगा।

डाई ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र संघ की दस्तावेज़ों में यह निर्धारित है कि विकास का अधिकार बुनियादी मानवाधिकार है। विकास का समान अधिकार सभी देशों का प्राकृतिक अधिकार है। चीन के विकास से विश्व की शांति के अनुकूल है, चीन मानव शांति व विकास के लिए अपना योगदान पेश करना चाहता है। डाई ने विभिन्न देशों से वर्तमान अंतर्राष्ट्रीय नियम को बनाये रखने और बहुपक्षवाद पर डटा रहने की अपील की।

यह मीटिंग चीनी पीपुल्स इंस्टीट्यूट ऑफ फॉरेन अफेयर्स तथा अज़रबैजान निज़ामी इंटरनेशनल सेंटर ने संयुक्त रूप से बुलायी है। 15 देशों के भूतपूर्व राजनेताओं, शासनाध्यक्षों तथा मशहूर विद्वानों व सूत्रों ने सभा में भाग लिया। सभा के विषयों में बेल्ट एंड रोड, विश्व के शासन, अनवरत विकास और चीन-यूरोप संबंध आदि शामिल हैं।

( हूमिन )

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी