जापानी विद्वानः जी-20 शिखर सम्मेलन विश्व अर्थतंत्र में और अधिक निश्चितता डाल सकेगा

2019-06-27 11:01:05

जी-20 शिखर सम्मेलन इस सप्ताह जापान के ओसाका में आयोजित होगा। आर्थिक भूमंडलीकरण में डांवाडोल स्थिति आने और बहुपक्षीय व्यापारी तंत्र को क्षति पहुंचाने की पृष्ठभूमि में जापानी आर्थिक विद्वानों और थिंक थैंक के विद्वानों ने आशा जताई की कि शिखर सम्मेलन व्यापारी क्षेत्र में तनावपूर्ण परिस्थिति में शैथिल्य लाने में मददगार होगा, खुलेपन विश्व अर्थतंत्र के सहनिर्माण को आगे बढ़ाएगा और विश्व बाजार के विश्वास को पुनरुत्थान करेगा।

हालिया दुनिया में अर्थतंत्र के सामने जोखिम और अनिश्चितताएं बढ़ती रहीं हैं। इसे मद्देनज़र जापानी विद्वानों ने सीआरआई के साथ साक्षात्कार में कहा कि जापान एक निर्यात उन्मुख आर्थिक इकाई है, जो अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक और व्यापारिक परिस्थिति से गहरे रूप से प्रभावित होती है। संयुक्त राष्ट्र संघ स्थित पूर्व जापानी दूत माकोतो तेनिगुती ने कहा कि हमें आर्थिक भूमंडलीकरण और बहुपक्षीय व्यापारिक तंत्र पर एकतरफ़ावाद के कुप्रभाव से सतर्क रखना चाहिए। अमेरिका अंतर्राष्ट्रीय सिस्टम को बदलने की कोशिश कर रहा है। इसी स्थिति में जापान, चीन और एशियाई विभिन्न देशों को मिलकर एक साथ सामना करना चाहिए।

जापान-चीन विज्ञान और तकनीकी सांस्कृतिक केंद्र के अध्यक्ष योशिताका मुराता ने कहा कि संरक्षणवाद का कोई फ़ायदा नहीं है। आशा है कि विभिन्न देशों को वर्तमान शिखर सम्मेलन में यह सिग्नल दे सकेंगे और सहमति भी बना सकेंगे।

जोखिम और चुनौतियों का निपटारा करने के लिए सहयोग और साझी जीत विभिन्न पक्षों का सही विकल्प है। जापानी अंतर्राष्ट्रीय एशियाई समुदाय संघ के अध्यक्ष एइछी शिनदो ने कहा कि विश्व के प्रमुख देशों को सहयोग कर बहुपक्षीय व्यापारिक तंत्र की समान रक्षा करनी चाहिए। हाल में विश्व अर्थतंत्र एक कुंजीभूत काल में खड़ा है। हमें एकतरफ़ावाद पर नियंत्रित लगाकर स्वतंत्र व्यापार के आधार पर खुलेपन और विविधतापूर्ण दुनिया का पुनःनिर्माण करना चाहिए।

(श्याओयांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी