सुरक्षा परिषद की सुधार प्रक्रिया में कृत्रिम रूप से गति नहीं दी जानी चाहिये - चीन

2019-06-27 17:31:02

संयुक्त राष्ट्र स्थित चीनी स्थायी प्रतिनिधि मा चाओ शू ने 25 जून को कहा कि सुरक्षा परिषद के रुपांतर प्रक्रिया में कृत्रिम रूप से गति देने, रुपांतरण की अंतिम तिथि तय करने और संबंधित वार्ता को अव्यवस्थित तौर पर शुरू करवाने से विभिन्न पक्षों के बीच अंतरविरोध को तेज बनाया जाएगा। इससे सुरक्षा परिषद रुपांतर के स्वास्थ्य विकास के लिए अनुकूल नहीं होगा।

73वीं संयुक्त राष्ट्र महासभा ने उसी दिन सुरक्षा परिषद रुपांतर की अंतरसरकारी वार्ता को अगली महासभा में संक्रमित करने का मौखिक फैसला लिया। चीनी प्रतिनिधि ने कहा कि चीन इस फैसले का स्वागत करता है। विभिन्न पक्षों के समान प्रयासों से अंतरसरकारी वार्ता में सकारात्मक प्रगतियां हासिल की गयी हैं। इस बात को स्पष्ट किया गया कि सुरक्षा परिषद के रुपांतर में विकासमान देशों, खासकर अफ्रीकी देशों के प्रतिनिधित्व और बोलने के अधिकार को बढ़ाया जाएगा। साथ ही सुरक्षा परिषद में छोटे व मझौले देशों की भागीदारी का मौका भी बढ़ाया जाएगा।

चीनी प्रतिनिधि ने कहा कि चीन दूसरे सदस्य देशों के साथ महासभा के नम्बर 62/557 प्रस्ताव के मुताबिक सदस्य देशों की प्रधानता तथा "पैकेज समाधान" के विचार पर डटा रहेगा। चीन अंतरसरकारी वार्ता के मंच पर दूसरे पक्षों के साथ धैर्य और व्यापक विचार विनिमय करने को तैयार है। चीन विभिन्न देशों से अपनी राजनीतिक अभिलाषा दिखाकर अगली महासभा की अंतरसरकारी वार्ता में सक्रिय और रचनात्मक रूप से भाग लेने की अपील करता है। ताकि संबंधित वार्ता व्यापक सहमतियां प्राप्त होने तथा सभी सदस्य देशों और संयुक्त राष्ट्र संघ के हित के अनुरूप कायम की जाए।

  ( हूमिन )

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी