जी20 के विशेषज्ञों ने चीन के खुलेपन का स्वागत प्रकट किया

2019-06-29 15:01:00

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने 28 जून को उद्घाटित जी20 शिखर सम्मेलन में उच्च गुणवत्ता वाले विश्व अर्थतंत्र के विकास में अधिक खुलापन करने की घोषणा की। जिससे अनेक विशेषज्ञों और विद्वानों की प्रतिक्रियाएं जन्मीं।

जापानी अंतर्राष्ट्रीय व्यापार व निवेश अनुसंधान शाले के नोरी योशिहारा ने कहा कि चीनी राष्ट्रपति के भाषण में खुलेपन और सहयोग पर जोर दिया गया है। इसमें अधिक आयात करने, कम चुंगी लगाने और अधिक निवेश करवाने आदि विषय शामिल हैं। इन कदमों से विश्व अर्थतंत्र के सतत विकास के लिए मददगार है।

स्पेनिश पत्रकार कार्लोस सेगोविया ने कहा कि चीन के खुलेपन कदमों से यूरोप में अधिकाधिक समर्थन प्राप्त हो गया है। वास्तव में यूरोपीय लोग अमेरिका के कठोर रवैये से असंतुष्ट हैं, क्योंकि स्वतंत्र व्यापार यूरोप का आधार ही है।

फ्रांसीसी विद्वान, चीन-यूरोप मंच के प्रचारक डेविड गोसेट का मानना है कि राष्ट्रपति शी चिनफिंग के भाषण से विश्व को रचनात्मक संकेत भेजा गया है। चीन की अर्थव्यवस्था का गुणवत्ता की ओर विकास होता जा रहा है। चीन की आर्थिक शक्तियो से तमाम दुनिया के समावेशी और अनवरत विकास को बढ़ावा मिलेगा।

रूसी सामरिक अनुसंधान संस्थान के विशेषज्ञ खोलोदकोव ने कहा कि इधर के वर्षों में चीन का विदेशी व्यापार अधिशेष कम होता रहा है। चीन में तीस करोड़ मध्य वर्ग लोगों की खपत में नाटकीय रूप से वृद्धि हुई है। रूस को इस मौके से लाभ मिलेगा। मिसाल के तौर पर चीन में सोयाबीन की बड़ी मांग है जबकि रूसी कंपनियां चीन में अधिक सोयाबीन का निर्यात कर रही हैं।

ब्रिटिश विद्वान मैथ्यी बिशोप का मानना है कि चीन "उत्पादन देश" से "उपभोक्ता देश" के रूप में परिवर्तित हो रहा है। चीन बहुपक्षवाद की रक्षा करने के प्रति सकंल्पबद्ध है। इधर के वर्षों में चीन अंतर्राष्ट्रीय बहुपक्षीय व्यापार के लिए जबरदस्त रक्षक है। इसके विपरीत अमेरिका विश्व व्यापार संगठन के लिए सर्व-नाशक बना है।

( हूमिन )

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी