नये विज्ञान व तकनीक सहयोग चीन-भारत संबंधों के विकास को मौका देंगे

2019-07-01 19:31:00

1 से 3 जुलाई तक चलने वाले विश्व आर्थिक मंच का 2019 वार्षिक सम्मेलन चीन के ताल्येन शहर में आयोजित हुआ। इस में उपस्थित भारतीय मेहमानों ने कहा कि नये विज्ञान व तकनीक सहयोग चीन-भारत संबंधों के विकास को मौका देंगे।

इस बार वार्षिक सम्मेलन का मुद्दा है नेतृत्व शक्ति 4.0 : भूमंडलीकरण के नये युग में सफलता का रास्ता। इस के दौरान उद्घाटन समारोह, उद्यमियों के संवाद, व्यावसायिक शाखा मंच, बंद द्वार सम्मेलन और समापन समारोह आदि 200 से अधिक गतिविधियों का आयोजन होगा। विश्व के लगभग एक सौ देशों व क्षेत्रों के 2000 से अधिक प्रतिनिधियों ने इस में भाग लिया।

भारत के एससीए ग्रूप की निदेशक भैरावी जानी ने कहा कि इस बार के सम्मेलन में वे चौथे औद्योगिक क्रांति में उच्च व नवीन तकनीकों के प्रयोग और नये उद्योग के विकास पर ध्यान देती हैं, ताकि भारत इससे सहयोग ढूंढ़ सके।

भारत के टेक महिंद्रा के वैश्विक सृजन प्रधान निखिल मल्होत्रा ने कहा कि तीन क्षेत्रों में भारत व चीन के सहयोग बहुत आवश्यक है। पहले, विनिर्माण पक्ष में चीन भारत को कुछ तकनीकी समर्थन दे सकता है। दूसरे, नवीन तकनीक में उदाहरण के लिये कृत्रिम बुद्धि, रोबोट आदि में चीन व भारत के आदान-प्रदान व सहयोग से दोनों देशों के समान विकास को मौका मिलेगा। अंत में बुनियादी सुविधाओं के निर्माण के पक्ष में भारत चीन के साथ सहयोग को मजबूत करना चाहता है।

चंद्रिमा

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी