चीन और अमेरिका के बीच संघर्ष दोनों देशों के हित के अनुकूल नहीं है

2019-07-02 10:02:00

विश्व सबसे महत्वपूर्ण द्विपक्षीय संबंधों में से एक के रूप में चीन और अमेरिका को समन्वय और सहयोग को आगे बढ़ाना चाहिए। संघर्ष दोनों देशों के हितों के अनुकूल नहीं है। 1 जुलाई को दूसरे वान श्यो अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा संगोष्ठी में भाग लेने के लिए पेइचिंग आए कई अमेरिकी विशेषज्ञों और विद्वानों ने यह बात कही।

अभी समाप्त हुए जी-20 के ओसाका शिखर सम्मेलन में चीन और अमेरिका के नेताओं ने द्विपक्षीय संबंध के विकास के मूल मामले, वर्तमान चीन अमेरिका आर्थिक और व्यापारिक संघर्ष जैसे मुद्दों पर गहन रूप से विचारों का आदान-प्रदान किया। दोनों पक्ष समानता और एक दूसरे के सम्मान के आधार पर आर्थिक और व्यापारिक सलाह मशविरे को फिर से शुरू करने पर सहमत हुए। इस पर अमेरिकी पूर्व राष्ट्रपति रोनाल्ड विल्सन रीगन के विशेष सहायक, काटो संस्थान के वरिष्ठ शोधकर्ता डगलस बैंडो ने इस बार चीन और अमेरिका के नेताओं के बीच मुलाकात में मिली उपलब्धियों का उच्च मूल्यांकन किया और कहा कि चीन और अमेरिका को समन्वय और सहयोग को मज़बूत करना चाहिए, संघर्ष में जाने से बचना चाहिए।

अमेरिका-चीन संबंध राष्ट्रीय कमेटी के सदस्य, डेनवर विश्वविद्यालय के जोसेफ़ कोरबेल स्कूल ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज के प्रोफ़ेसर सैम च्याओ ने कहा कि चीन और अमेरिका में गहरी निर्भरता है। चीन की रोकथाम करने का अमेरिका का प्रयास अदूरदर्शी है और सफल नहीं होगा।

(वनिता)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी