ईरान के संवर्धित यूरेनियम का भंडार ऊपरी सीमा से अधिक होने पर अंतर्राष्ट्रीय समुदाय का बड़ा ध्यान

2019-07-03 11:36:00

1 जुलाई को ईरान ने कम सघनता वाले संवर्धित यूरेनियम का भंडार 3 सौ किलोग्राम से भी अधिक होने की घोषणा की। यह ईरान के परमाणु मामले के सर्वांगीण समझौते में निर्धारित कम सघनता वाले संवर्धित यूरेनियम की ऊपरी सीमा है। अंतर्राष्ट्रीय समुदाय ने इस पर बड़ा ध्यान दिया।

यूरोपीय संघ के कूटनीति और सुरक्षा-नीति के उच्च प्रतिनिधि, फ्रांस, जर्मनी, ब्रिटेन के विदेश मंत्रियों ने 2 तारीख को एक संयुक्त वक्तव्य जारी कर ईरान से संवर्धित यूरेनियम के भंडार की ऊपरी सीमा से अधिक होने की स्थिति बदलने की अपील की। वक्तव्य के अनुसार ईरान के परमाणु मामले के सर्वांगीण समझौते पर यूरोपीय संघ, फ्रांस, जर्मनी और ब्रिटेन के वचन का आधार है कि ईरान पूरी तरह से इस समझौते का पालन करता है। इस वक्तव्य में ईरान से इस स्थिति बदलने का आग्रह किया गया।

रूस के उप विदेश मंत्री सेर्गेई रयाब्कोव ने 1 तारीख को कहा कि ईरान के संवर्धित यूरेनियम का भंडार ऊपरी सीमा से अधिक होना खेदजनक है। हाल के कई महीनों में ईरान अमेरिका द्वारा लगाए गए प्रतिबंध और अन्य बड़े दबाव में है। रूस ने विभिन्न पक्षों से इस मामले पर संयम बरतने की अपील की है।

अमेरिका के व्हाइट हाउस द्वारा 1 तारीख को जारी वक्तव्य में कहा गया है कि ईरान के परमाणु समझौते द्वारा ईरान को संवर्धित यूरेनियम की कार्यवाही करने की अनुमति दिया जाना एक गलत बात है। विभिन्न पक्षों को ईरान को संवर्धित यूरेनियम की किसी भी कार्यवाही को बन्द करने की मांग करनी चाहिए। वक्तव्य में कहा गया कि अमेरिका और उसके मित्र, ईरान को परमाणु हथियार विकसित करने की अनुमति नहीं देंगे।

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने 2 तारीख को आयोजित नियमित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि चीन ने ईरान के इस कदम पर खेद प्रकट किया है। जैसा कि चीन ने बार-बार जोर दिया है, अमेरिका का "चरम दबाव" वर्तमान ईरानी परमाणु तनाव का मूल कारण है। चीन ने विभिन्न पक्षों से यह अपील की कि बड़ी तस्वीर और लंबी अवधि के दृष्टिकोण से संयम रखकर समान रूप से ईरान के परमाणु मामले के सर्वांगीण समझौते की रक्षा की जाए, ताकि तनाव को कम किया जाए।

(वनिता)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी