पिछले 14 महीनों में ईरान ने समझौता बचाने के लिए "रणनीतिक धैर्य" रखा

2019-07-07 15:33:00

ईरान के राष्ट्रपति हसन रोहानी ने 6 जुलाई को फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन के साथ फोन पर हुई वार्ता में कहा कि पिछले 14 महीनों में ईरान ने "रणनीतिक धैर्य" से परमाणु समझौते को बचाने के लिए प्रयास किया। ईरान को आशा है कि यूरोपीय संघ इस समझौते को बचाने के लिए और अधिक प्रयास करेगा।

ईरान के राष्ट्रपति भवन की वेबसाइट पर जारी सूचना के अनुसार हसन रोहानी ने वार्ता में कहा कि हालांकि ईरान अमेरिका के प्रतिबंध का सामना करता है, लेकिन ईरान ने पिछले 14 महीनों में "रणनीतिक धैर्य" से हमेशा से ईरान के परमाणु समझौते को बचाने का प्रयास किया है। हाल ही में ईरान ने इस समझौते के अनुसार कार्यवाहियां कीं। उन्होंने यह भी कहा कि ईरान पर अमेरिका द्वारा लगाया गया प्रतिबंध "आतंकवाद" और "एक व्यापक आर्थिक युद्ध" है। लगातार इस तरह के आर्थिक युद्ध जारी रखने से मध्य-पूर्व क्षेत्र यहां तक की विश्व को अन्य खतरा होगा। ईरान पर लगाए गए सभी प्रतिबंध बन्द करने से ईरान और परमाणु में बिना अमेरिका के अन्य पक्षों के बीच संबंध में नई शक्ति दी जाएगी।

इस वार्ता के बाद फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन के कार्यालय द्वारा जारी वक्तव्य के अनुसार यूरोपीय संघ अमेरिका द्वारा ईरान परमाणु समझौते से बाहर करने का दृढ़ता से विरोध करता है। मैक्रॉन ने रोहानी के साथ 15 तारीख से पहले परमाणु समझौते की बहाली करने से संबंधित वार्ता के शर्त पर विचार-विमर्श करने पर सहमति व्यक्त की। (वनिता)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी