चीन हावी न होने, विस्तार न करने, शक्ति दायरे के पीछे न दौड़ने पर कायम रहेगा

2019-07-24 19:03:00

24 जुलाई को जारी नये युग में चीनी प्रतिरक्षा नामक श्वेत पत्र में यह कहा गया है कि चीन हावी न होने, विस्तार न करने, शक्ति दायरे के पीछे न दौड़ने पर कायम रहेगा। यह नये युग में चीनी प्रतिरक्षा की स्पष्ट विशेषता है।

श्वेत पत्र में इस पर जोर दिया गया है कि चीन सहयोग व गैर गठबंधन पर कायम रहेगा, किसी सैन्य गुट में भाग नहीं लेगा, आक्रामक विस्तार का विरोध करेगा, और मनमानी से बल प्रयोग करके धमकी देने का विरोध करेगा। चीन का प्रतिरक्षा निर्माण व विकास अपनी सुरक्षा से केंद्रित वैध मांग को पूरा करने के लिये किया जाता है। जो विश्व में शांतिपूर्ण शक्ति की वृद्धि है। इतिहास से यह जाहिर हुआ है कि चीन ने प्रभुत्व के लिए कोशिश नहीं की। भविष्य में चीन भी किसी को धमकी नहीं देगा, और अपने शक्ति दायरे का विस्तार करने के लिये कोशिश नहीं करेगा।

श्वेत पत्र में इसे दोहराया गया कि चीन हमेशा के लिये रक्षात्मक प्रतिरक्षा नीति अपनाएगा। चीनी सेना अंतर्राष्ट्रीय कर्तव्य व जिम्मेदारी निभाने पर कायम रहेगी, हमेशा से सहयोग व समान जीत का झंडा उठाकर अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को ज्यादा से ज्यादा सार्वजनिक सुरक्षा उत्पाद पेश करेगी, और मानव साझा नियति समुदाय की स्थापना के लिये अपना योगदान देगी।

चंद्रिमा

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी