अमेरिकी शैली वाले मानवाधिकार का पाखंडी स्वभाव खुला

2019-07-26 17:32:00

चीनी मानवाधिकार अनुसंधान संघ ने 26 जुलाई को《अमेरिकी दीर्घस्थायी नस्ल भेद मामले से अमेरिकी शैली वाले मानवाधिकार का पाखंडी स्वभाव खुल गया》नामक लेख जारी किया।

लेख में यह कहा गया है कि जातीयता अमेरिका में सामाजिक श्रेणी को विभाजित करने की एक महत्वपूर्ण द्योतक है। अमेरिका में नस्लीय भेदभाव का मतलब यह है कि यूरोपीय मूल के गोरे आदमी अन्य सभी अल्पसंख्यक नस्लों के साथ भेदभाव करते हैं। यह भेदभाव सामान्य जीवन के हर पक्ष में दिखता है। खास तौर पर कानून का पालन, अर्थव्यवस्था व समाज आदि क्षेत्रों में भेदभाव की स्थिति बहुत स्पष्ट है।

उन के अलावा लेख में मूल इंडियन्स, मुस्लिम समूह व अप्रवासी समूह को अमेरिका में मिले भेदभाव का परिचय भी दिया गया।

लेख के अनुसार अमेरिका के नस्लीय भेदभाव मामले से समाज में गंभीर कुप्रभाव पड़ा। जिससे नस्लीय संबंध दिन-ब-दिन बिगड़ रहे हैं। घृणा अपराधों की संख्या निरंतर रूप से बढ़ रही है। समाज का विभाजन दिन-ब-दिन गंभीर हो रहा है।

लेख में यह कहा गया है कि अमेरिका अपने को मानवाधिकार रक्षक मानता है। लेकिन अपने देश में गंभीर नस्लीय भेदभाव मामलों का समाधान करने में वह अक्षम है। जिससे अमेरिकी शैली वाले मानवाधिकार का पाखंडी स्वभाव स्पष्ट रूप से खुल चुका है।

चंद्रिमा

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी