दुनिया में तनाव आर्थिक स्थिति में भारतीय अर्थव्यवस्था अकेली नहीं हो सकती

2019-07-29 18:31:00

हाल के वर्षों में भारत की अर्थव्यवस्था नवोदित आर्थिक शक्तियों में श्रेष्ठ बनी रही, लेकिन इस साल से भारत में आर्थिक वृद्धि दर धीमी रही। भारतीय अर्थशास्त्री भट्टाचार्य ने कहा कि दुनिया में तनाव आर्थिक स्थिति से भारतीय अर्थव्यवस्था भी प्रभावित हुई है। इसके साथ साथ भारतीय अर्थव्यवस्था में ढांचागत समस्याएं भी मौजूद हैं।

भट्टाचार्य ने कहा कि आर्थिक वृद्धि घरेलू और बाहरी तत्वों पर निर्भर रहती है। हाल के वर्षों में भारत के जीडीपी में निर्यात का अनुपात लगातार बढ़ रहा है। लेकिन पिछले साल से व्यापारिक संरक्षणवाद की वजह से भारत के निर्यात में कटौती हुई है। यह भारत में आर्थिक वृद्धि दर कम होने का मुख्य कारण है।

उन्होंने कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था में ढांचागत सवाल भी मौजूद हैं, जैसा कि युवाओं की बेरोजगारी। भारतीय युवा लोग काम करना चाहते हैं, लेकिन उनके पास उचित क्षमता नहीं है। भारतीय अर्थव्यवस्था असक्षम कर्मचारियों को रोज़गार नहीं दे सकती।

(ललिता)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी