टिप्पणीः अधिकतम दबाव से मामला नहीं सुलझेगा

2019-08-02 18:01:01

12वीं चीन अमेरिका उच्च स्तरीय वार्ता पूरी होने के बाद ही अमेरिकी पक्ष ने फिर टैरिफ़ का डंडा उठाकर धमकी दी कि वह 1 सितंबर से चीन से आयातित 3 खरब अमेरिकी डॉलर लागत वाली वस्तुओं पर 10 प्रतिशत अतिरिक्त टैरिफ़ लगाएगा। चीनी पक्ष ने इस पर ज़बरदस्त असंतोष और आपत्ति व्यक्त की है। चीन ज़रूरी कदम उठाकर देश के केंद्रीय हितों और जनता के बुनियादी हितों की डटकर सुरक्षा करेगा।

12वीं दौर की वार्ता के बाद दोनों पक्षों का समान विचार है कि उन्होंने रचनात्मक आदान प्रदान किया ।दोनों पक्ष सहमत हुए कि वे इस अगस्त में घनिष्ठ सलाह मश्विरा करेंगे ।ऐसा परिणाम हासिल करना आसान नहीं है ।अंतरराष्ट्रीय समुदाय की प्रतीक्षा है कि चीन और अमेरिका समानता और पारस्परिक सम्मान के आधार पर वार्तालाप का रुझान बनाए रखेंगे। लेकिन अमेरिका ने फिर कर वृद्धि की धमकी दी है, जो समस्या सुलझाने के मार्ग में बाधा है ।अमेरिका ने चीन पर आरोप लगाया है कि चीन द्वारा अमेरिका से कृषि उत्पाद खरीदने और फेंटानिल( Fentanyl) के नियंत्रण में प्रगति नहीं हुई ।ये आरोप निराधार है ।19 जुलाई से चीन के कुछ उद्यमों ने सोयाबीन ,कपास ,सुअर के मांस जैसे कृषि उत्पाद खरीदने के लिए अमेरिकी आपूर्तिकर्ताओं से दाम पूछे हैं और कुछ सौदे संपन्न हो चुके हैं ,जिनमें 1 लाख 30 हज़ार टन सोयाबीन ,40 हजार टन सुअर के मांस और संबंधित उत्पाद और 1 लाख बीस हजार टन सोगर्म शामिल हैं। फेंटानिल नियंत्रण के लिए वैश्विक सहयोग की जरूरत है ।1 मई से चीन ने फेंटानिल जैसे पदार्थों के प्रति विशेष प्रबंधन कदम उठाया है ।अमेरिका में फेंटानिल के दुरुपयोग का सवाल कई तत्वों का परिणाम है ।अमेरिका को सिर्फ दूसरे पर जिम्मेदारी नहीं थोपनी चाहिए।

व्यापार युद्ध में कोई विजेता नहीं होता ।कर वृद्धि से अमेरिका की चिंता दूर नहीं की जा सकेगी ।वह सिर्फ दोनों देशों और विश्व के हितों को नुकसान पहुंचाएगा ।चीनी जनता कभी भी दुष्ट शक्तियों से नहीं डरती। व्यापार युद्ध के मुकाबले में चीन का मज़बूत आधार है। चीन इसके परिणाम को झेल सकता है। अमेरिका को फौरन ही अपनी गलती सुधारकर सही रास्ता पर लौटना चाहिए।

(वेइतुंग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी