चीनः अमेरिका की निंदा निराधार है

2019-08-06 11:32:00

हाल में अमेरिका के कुछ लोगों ने कहा कि चीन ने अमेरिकी कृषि उत्पादों को खरीदने की यथार्थ कार्यवाई नहीं की। यह निंदा बिलकुल निराधार है। चीनी राष्ट्रीय विकास व सुधार कमेटी के महासचिव छोंग ल्यांग ने 5 अगस्त को मीडिया के साथ साक्षात्कार में यह बात कही। उन्होंने कहा कि चीन और अमेरिका के शीर्ष नेताओं की ओसाका भेंटवार्ता के बाद चीन ने अमेरिकी कृषि उत्पादों को खरीदने में सक्रिय रूप से सहयोग की सदिच्छा प्रकट की और कई प्रगतियां भी हासिल कीं। लेकिन अमेरिकी उत्पादों की प्रतिस्पर्द्धा शक्ति के अभाव की यथार्थ स्थिति भी है।

छोंग ल्यांग के मुताबिक ओसाका भेंटवार्ता के बाद से जुलाई के अंत तक कुल 22.7 लाख टन अमेरिकी सोयाबीन ने चीन में प्रवेश किया है। अनुमान है कि अगस्त माह में और 20 लाख टन सोयाबीन चीन को भेजी जाएगी। दोनों पक्षों के बीच हस्ताक्षरित कुल 1.4 करोड़ टन के सोयाबीन में सिर्फ़ 3 लाख टन सितम्बर माह में चीन को भेजी जाएगी। इस के अलावा 2 अगस्त तक चीन ने अमेरिका से सूखी घास, गेहूं, कपास, सुअर मांस, दुग्ध उत्पाद, फल आदि कृषि उत्पादों को खरीदा है।

कृषि क्षेत्र में चीन और अमेरिका की मज़बूत आपूर्ति है। कृषि उत्पादों का व्यापार करना दोनों पक्षों के समान हितों से मेल खाता है। अगर अमेरिकी कृषि उत्पादों का दाम उचित हो और गुणवत्ता श्रेष्ठ हो, तो चीनी कारोबार अमेरिका से और ज्यादा कृषि उत्पादों का आयात करेंगे। लेकिन चूंकि अमेरिका ने टैरिफ़ बढ़ाया और चीन के साथ व्यापारिक युद्ध छेड़ा, इसलिए चीनी बाजार में अमेरिकी कृषि उत्पादों की प्रतिस्पर्द्धा शक्ति बड़ी नहीं है। यह इस बात का द्योतक है कि व्यापारिक युद्ध से दूसरों को नुकसान पहुंचाने के साथ खुद को भी नुकसान पहुंचेगा। आशा है कि अमेरिका पक्ष बाजार अर्थतंत्र के बुनियादी सिद्धांत का कड़ाई से पालन करेगा और चीन-अमेरिका कृषि उत्पादों के व्यापार के लिए बाधा मिटाएगा और स्थितियां पैदा करेगा।

(श्याओयांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी